कुष्ठ रोग अस्पताल के डॉक्टर व जिला अस्पताल के वार्ड ब्वाय की पॉजिटिव रिपोर्ट आने से मचाई यह बड़ी तबाही

कुष्ठ रोग अस्पताल के डॉक्टर व जिला अस्पताल के वार्ड ब्वाय की पॉजिटिव रिपोर्ट आने से मचाई यह बड़ी तबाही

कोरोना की रोकथाम में लगे स्वास्थ्य विभाग के वॉरियर्स भी संक्रमण की जद में आने लगे हैं. कुष्ठ रोग अस्पताल के डॉक्टर व जिला अस्पताल के वार्ड ब्वाय की पॉजिटिव रिपोर्ट आने से महकमे में हड़कंप मचा है. डॉक्टर आईएफटीएम में क्वारंटीन लोगों की निगरानी में था.

 जबकि वार्ड ब्वाय की आशंकित लोगों की स्क्रीनिंग में ड्यूटी लगी थी. दोनों के संक्रमण की चपेट में आने से जिला अस्पताल में मंगलवार को स्क्रीनिंग के सारे स्टाफ की ड्यूटी बदल गई है. वार्ड ब्वाय के साथ ड्यूटी करने वाले 12 लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया है.

पाकबड़ा निवासी 29 वर्ष का युवक जिला अस्पताल में संविदा पर वार्ड ब्वाय है. उसकी कोरोना आशंकित मरीजों की स्क्रीनिंग वार्ड में ड्यूटी थी. स्क्रीनिंग के बाद क्वारंटीन कई आशंकित लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर अस्पताल प्रशासन ने एहतियातन पांच डॉक्टर समेत आठ लोगों के कोरोना सैंपल कराए. इन्हीं में 17 अप्रैल को वार्ड ब्वाय का सैंपल भी हुआ.

अन्य लोगों की रिपोर्ट नकारात्मक आई है, जबकि वार्ड ब्वाय कोरोना पॉजिटिव आया है. अस्पताल प्रशासन ने मंगलवार को एहतियातन स्क्रीनिंग करने वाला स्टाफ बदल गया. वार्ड ब्वाय के अतिरिक्त उस दौरान ड्यूटी करने वाले 12 लोगों को क्वारंटीन कर दिया है. स्क्रीनिंग वार्ड से लेकर अस्पताल के संवेदनशील जगहों पर सेनिटाइजेशन कराया गया है. स्टाफ नर्स के सम्पर्क में आए लोगों को चिह्नित किया जा रहा है. वार्ड ब्वाय के गांव बागड़पुर की मड़ैया में उसके परिवार के आठ लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया गया तथा एसडीएम ने गांव का दौरा किया. वहां भी देखा जा रहा है कि वह किस किस के सम्पर्क में था.

इसके अतिरिक्त कुष्ठ रोग अस्पताल में संविदा पर तैनात डॉक्टर की भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. बुध मार्केट दुर्गा मंदिर वाली गली में रहने वाले एमपीएच (मास्टर ऑफ पब्लिक हेल्थ) डॉक्टर पांच वर्ष से विभाग में तैनात हैं. डॉक्टर को 11 अप्रैल से 17 अप्रैल तक आईएफटीएम में क्वारंटीन किए गए लोगों की देखरेख को ड्यूटी पर लगाया गया था. ड्यूटी करने के बाद डॉक्टर अपने घर जाते थे. उनकी पॉजिटिव रिपोर्ट आने से परिवार व आसपास के लोगों में दहशत बनी है.

फर्ज निभाते संक्रमित हो गया, अब परिवार की चिंता
मेरी ड्यूटी 11 अप्रैल से 17 अप्रैल तक आईएफटीएम के छात्रावास में लगी थी. साथ में तीन लोगों का स्टाफ भी था. 17 अप्रैल को मुझे खांसी की शिकायत हुई. कफ आने लगा. बाकी कोई लक्षण नहीं थे. मेरा एक माह का बच्चा है. पत्नी भी बीमार है. मैंने एहतियातन खुद का कोरोना सैंपल कराया. रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है. परिवार में माता व पिता के अतिरिक्त पत्नी व दो बच्चे हैं. मैं ड्यूटी के बाद घर जाता था. घर पर सोशल डिस्टेंसिंग से रहा. मैं अपना फर्ज निभाते हुए संक्रमित हो गया हूं, लेकिन परिवार को लेकर चिंता बढ़ गई है. मुझे जिला अस्पताल में भर्ती कर दिया है. परिवार के सदस्यों को होम क्वारंटीन कर दिया है व उनके सैंपल लिए जाएंगे. भगवान से प्रार्थना कर रहा हूं कि सभी की रिपोर्ट नकारात्मक आए.