लोक निर्माण विभाग (PWD) ने 100 करोड़ रुपये में कुकरैल बांध के किनारे बनाई गई सिक्स लेन रोड का किया यह हाल

लोक निर्माण विभाग (PWD) ने 100 करोड़ रुपये में कुकरैल बांध के किनारे बनाई गई सिक्स लेन रोड का किया यह हाल

लोक निर्माण विभाग (PWD) ने 100 करोड़ रुपये में कुकरैल बांध के किनारे बनाई गई सिक्स लेन रोड का बुरा हाल कर दिया है. सड़क के नीचे कुकरैल नदी को जोड़ने वाला एक नाला था.

 जिसको बिना अच्छा से सुदृढ किए ही ठेकेदार ने सड़क निर्माण किया व इंजीनियरों ने इसको हरी झंडी दे दी. कुछ समय बाद ही सड़क धीरे धीरे धंसने लगी. आखिरकार अब सड़क को लाकडाउन से पहले खोदकर छोड़ दिया गया है. ये सड़क कब बनेगी किसी को नहीं पता.

पीडब्ल्यूडी ने कल्याण अपार्टमेंट रिंग रोड से लेकर कुकरैल नदी के किनारे-किनारे होते हुए पेपर मिल कॉलोनी तिराहे तक सिक्स लेन सड़क बनाई है । इस सड़क की लंबाई तकरीबन साढे चार किलोमीटर है । सड़क के निर्माण पर तकरीबन 100 करोड रुपए का खर्च आया था. सड़क पर वाहनों का आवागमन अक्टूबर 2018 में प्रारम्भ हुआ था. सड़क के बीच रास्ते में किनारे पर एक बैरल है. यहां से गुजरने वाला नाला कुकरैल नदी में मिलता है । सड़क के नीचे से नाला गुजरा है । जिसमें से आधे नाले को तो सड़क के नीचे सुदृढ कर दिया गया था. मगर बचे हुए आधे नाले को वैसे ही छोड़ दिया गया । नाले को छोड़ने की वजह से इंजीनियरों को यह बात समझ में आई कि धीरे-धीरे इस सड़क के बैठने का खतरा पैदा हो रहा है. उसके बाद सड़क की एक बड़े हिस्से को नए सिरे से खोद कर उसके जगह पर एक पुलिया बनाने का फैसला लिया गया है. इस पुलिया के निर्माण पर करीब 75 लाख रुपए का खर्च आएगा. इस सारे प्रकरण में तत्कालीन अधिशासी अभियंता , अवर अभियंता व सहायक अभियंता की अनदेखी स्पष्ट नजर आई है. नाले का नए सिरे से निर्माण किए जाने के जगह पर उसका अधूरा ही निर्माण किया गया. जिससे पैसा बचाया जा सके. मगर इसका नतीजा यह हुआ कि अब पीडब्ल्यूडी को नए सिरे से सड़क खोदकर फिर से बनानी पड़ेगी. लॉकडाउन से कुछ समय पहले इस सड़क को फिर से खोदा गया है । करीब 15 फीट की गहराई तक ओर खोद दिया गया है. इस वजह से एक तरफ से आवागमन बंद है । लोगों को परेशानियां हो रही हैं.

क्या कहते हैं प्रतिनिधि रक्षा मंत्री ?

प्रतिनिधि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दिवाकर त्रिपाठी ने बताया कि यह बात स्पष्ट समझ में आ रही है कि सड़क निर्माण के दौरान इंजीनियरों ने अनदेखी की थी. जिसकी वजह से न सिर्फ अलग से बनाना पड़ रहा है बल्कि धन की बर्बादी होगी. इस प्रकरण में उच्चाधिकारियों से बातचीत की जाएगी.

क्या कहते हैं पीडब्ल्यूडी अधिशाषी अभियंता ?

पीडब्ल्यूडी अधिशाषी अभियंता अवधेश सिंह के मुताबिक, तत्कालीन अभियंताओं से नाले के सर्वे में अनदेखी हुई है । नाले के ऊपर सड़क निर्माण से कोई गड़बड़ नहीं होगी, इस प्रत्याशा में सड़क बनने दी गई थी. अब यह गड़बड़ी सामने आ गई है । हम लोग सड़क पर नए सिरे से खुदाई कराकर पुलिया का निर्माण करवाएंगे । पुलिया के निर्माण में करीब 7500000 रुपए का खर्च आएगा. जल्द सड़क पर पुलिया बन जाएगी. यातायात बहाल होगा.