अलीगढ़ में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाले को लेकर की यह मांग

अलीगढ़ में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाले को लेकर की यह मांग

अलीगढ़ में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने महाकाल मंदिर को आतंकवाद का अड्डा बताने वाले बीएसपी पार्षद की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने का घेराव किया व हनुमान चालीसा पढ़ी. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं. हालांकि मुद्दे में पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है. 


अलीगढ़ के थाना क्वार्सी का सैकड़ों बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने घेराव किया व महाकालेश्वर मंदिर को आतंकियों का अड्डा बताने वाले एएमयू पूर्व विद्यार्थी और बीएसपी पार्षद की गिरफ्तारी की मांग की. लेकिन इस दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ता यह भूल गए कि इन दिनों कोरोना वायरस से लोग कितना परेशान हैं. 
शासन की दी हुई गाइडलाइन को तोड़ते हुए सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाईं. हालांकि पुलिस इस मुद्दे पर भी कार्रवाई की बात कह रही है.दरअसल बीते दिनों मध्य प्रदेश स्थित महाकाल मंदिर में कानपुर के बिकरू में पुलिसवालों की मर्डर करने वाले विकास दुबे की गिरफ्तारी हुई थी. जिसके बाद बीएसपी पार्षद सद्दाम हुसैन ने सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए बोला था कि महाकाल मंदिर आतंकियों का अड्डा है. 

इस पर जिले के भिन्न-भिन्न थानों में बीएसपी पार्षद के विरूद्ध मुकदमे दर्ज कराए गए. लेकिन थाना क्वार्सी, गांधी पार्क व देहली गेट में मुकदमा दर्ज़ होने के बावजूद भी एएमयू पूर्व विद्यार्थी और बीएसपी पार्षद सद्दाम हुसैन की गिरफ्तारी ना होने से नाराज बजरंग दल के सैकड़ों पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने क्वार्सी थाने का घेराव किया. 

इस दौरान कार्यकर्ताओं ने हनुमान चालीसा पढ़ी. बजरंगियों का बोलना है कि अगर महाकालेश्वर मंदिर को आतंकियों का अड्डा बताने वाले आरोपी बीएसपी पार्षद की गिरफ्तारी नहीं हुई तो आगे भी इसी प्रकार प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे.

वहीं, सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने के मुद्दे में पुलिस ने मुकदमा कर लिया है. 17 नामजद समेत 100 अज्ञात लोगों के विरूद्ध धारा 188, 269, 270 व महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है. थाना क्वार्सी का बजरंग दल के 100 से अधिक कार्यकर्ताओं ने घेराव किया था, बजरंग दल के कार्यकर्ता बीएसपी पार्षद सद्दाम हुसैन की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे.