उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में एक कोरोना संक्रमित मरीज ने उठाया यह बड़ा कदम

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में एक कोरोना संक्रमित मरीज ने उठाया यह बड़ा कदम

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में एक कोरोना संक्रमित कोविड अस्पताल बुधवार की रात हंगामा करने लगा. इसके बाद वह चार मंजिला इमारत की ऊपरी मंजिल से कूद गया व भागने लगा. गार्ड ने रोकने की प्रयास की तो उसके साथ रॉड से हाथापाई कर दी. इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई.

कोरोना संक्रमित (55 साल) को चार दिन पहले कोविड-19 अस्पताल में मेडिकल कालेज में भर्ती कराया था. आकस्मित बुधवार की रात को उसने हंगामा प्रारम्भ कर दिया. बताया जा रहा है कि उसने खाना खाने से भी मना कर दिया था. आकस्मित वह हंगामा करते हुए चौथी मंजिल के जंगला को तोड़कर पाइप के सहारे नीचे की ओर आया व फिर बीच में से कूद गया. 

गार्ड ने रोका तो कर दी पिटाई
जब कोराना संक्रमित को चौथी मंजिल से नीचे आने की सूचना गार्ड को मिली तो वह दौड़कर उसकी ओर बढ़ा. वहीं संक्रमित ने अपने हाथ में एक रॉड ले ली व उससे गार्ड के पास आते ही प्रहार कर दिया. गार्ड घायल हो गया व उसकी घेराबंदी करने लगा.

हंगामे की सूचना पुलिस को दी
संक्रमित को पकड़ने से पहले हर कोई खुद के संक्रमित होने को लेकर असमंजस में था. थाना उत्तर पुलिस को इसकी जानकारी स्वास्थ्यकर्मियों ने दी. इसके बाद पुलिस ने भी पीपीई किट पहनकर आरोपी को पकड़ा.

प्राचार्या, सीएमए रात में पहुंचे
हंगामे की सूचना पर मेडिकल कालेज की प्राचार्या डाक्टर संगीता अनेजा, सीएमएस डाक्टर आलोक कुमार भी रात में पहुंच गए. एक घंटे तक चले हंगामे के बाद आरोपी संक्रमित को पकड़ा गया था.

उपचार के दौरान मृत्यु हुई
आरोपी संक्रमित को इलाज के लिए अस्पताल लाया गया जहां कुछ घंटे के बाद ही उसने दम तोड़ दिया. इसके बाद स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया.

एफएच में नहीं लिया संक्रमित
एफएच मेडिकल कालेज में पहले संक्रमित को भेजा था. वहां से लेने से इंकार कर दिया. कालेज प्रशासन ने बोला कि फिरोजाबाद का कोविड हास्पीटल भी लेवल-2 का है व हमारा भी फिर एक लेवल के हास्पीटल में कैसे रेफर किया जा सकता है. तब वापस ले गए.

बालाजी बोल रहा था संक्रमित
प्राचार्या डाक्टर संगीता अनेजा ने बताया कि वह मानसिक रूप से परेशान होने कि सम्भावना है. वह संक्रमित था इसलिए उसे पकड़ने में ऐहतियात बरती गई. उसकी इलाज के दौरान मृत्यु हो गई. वह बार बार बालाजी बालाजी बोल रहा था. उसने पाइप से गार्ड की पिटाई की थी.

हंगामा को लेकर अन्य संक्रमित परेशान
हंगामा होने से कोविड अस्पताल में आईसोलेशन व क्वारंटाइन में भर्ती कराए मरीजों में हड़कंप मच गया. वे लगातार खिड़कियों से हंगामे को देखते रहे.

आइसोलेशन वार्ड में मृत्यु हुईःसीएमएस
प्रभारी सीएमएस डॉ आलोक शर्मा ने बताया एफ एच कॉलेज में उसे लेने से मना कर दिया गया था. उसे वापस आइसोलेशन वार्ड लाया गया, जहां उसकी मृत्यु हो गई.