कटहल खराब निकलने पर सब्जी विक्रेता ने उतार दिया मौत के घाट

कटहल खराब निकलने पर सब्जी विक्रेता ने उतार दिया मौत के घाट

गाजियाबाद के मधुबन बापूधाम थानाक्षेत्र के मोरटा गांव में कथित तौर पर कटहल खराब निकलने पर पुरुष ने ठेली पर लगी एलईडी लाइट के स्टैंड से सब्जी विक्रेता के सिर पर अंधाधुन्ध वार कर उसे मृत्यु के घाट उतार दिया. घटना के बाद आरोपी मौके से फरार हो गया. घायल सब्जी विक्रेता को परिजन शीघ्र में हॉस्पिटल ले गए, जहां उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया. मृतक के बेटे की कम्पलेन पर पुलिस ने गैर इरादतन मर्डर का मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश प्रारम्भ कर दी है.

मूलरूप से हरदोई निवासी 38 वर्षीय अनिल कुमार करीब 20 वर्ष से मधुबन बापूधाम थानाक्षेत्र के गांव मोरटा में रह रहा था. वह गांव में सब्जी की ठेली लगाकर परिवार की गुजर-बसर करता था. गुरुवार को भी अनिल ने सब्जी की ठेली लगाई हुई थी. देर रात गांव का ही संदीप त्यागी अनिल के पास सब्जी खरीदने आया. वह कटहल खरीदकर घर चला गया, उसने घर जाकर देखा तो कटहल खराब निकला.

इससे तैश में आकर संदीप दोबारा ठेली पर पहुंचा और अनिल पर खराब सब्जी देने का आरोप लगाया. अनिल ने उसके आरोप को गलत बताया और कटहल वापस लेकर पैसे लौटाने की बात कही. आरोप है कि इसके बावजूद संदीप का गुस्सा शांत नहीं हुआ. उसने ठेली पर रोशनी के लिए लगी एलईडी लाइट का स्टैंड उठाया और अनिल के सिर पर अंधाधुन्ध वार करने प्रारम्भ कर दिए.

बेहोश होने तक करता रहा हमला

परिजनों का आरोप है कि संदीप त्यागी अनिल के सिर पर एलईडी के स्टैंड से तब तक हमला करता रहा, जब तक वह बेहोश होकर जमीन पर नहीं गिर गया. इसके बाद आरोपी मौके से फरार हो गया. घटना की सूचना मिलने पर परिजन मौके पर पहुंचे और अनिल को कैलाश हॉस्पिटल में भर्ती कराया. हालत गंभीर होने के चलते आईसीयू वार्ड में शिफ्ट किया गया. परिजनों की सूचना पर पुलिस हॉस्पिटल में पहुंची और परिजनों से घटना की जानकारी ली.

नौ घंटे बाद तोड़ दिया दम

परिजनों के मुताबिक, सब्जी विक्रेता अनिल कुमार पैरालाइज्ड थे. घटना के बाद उनकी हालत प्रारम्भ से ही नाजुक बनी हुई थी. हॉस्पिटल में नौ घंटे तक जीवन और मृत्यु से जूझने के बाद अनिल ने शुक्रवार सुबह दम तोड़ दिया. घटना के बाद पीड़ित परिवार में कोहराम मच गया. पुलिस ने दोपहर बाद पंचनामाभर मृत शरीर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. परिजनों ने मर्डर का आरोप लगाते हुए संदीप त्यागी के विरूद्ध लिखित में कम्पलेन दी है.

तमाशबीन बने रहे लोग

बताया जा रहा है कि जिस समय संदीप त्यागी सब्जी विक्रेता के साथ हाथापाई कर रहा था, उस समय काफी संख्या में लोग मौके पर उपस्थित थे, लेकिन वह तमाशबीन बने रहे. किसी ने भी अनिल को बचाने की प्रयास नहीं की. पुलिस का बोलना है कि यदि लोग हौसला दिखाते तो अनिल की जान बच सकती थी. हालांकि, आरोपी के फरार होने के बाद मौके पर उपस्थित लोगों ने अनिल के पास जाकर झूठी सहानुभूति बटोरने की प्रयास की.
 
सीओ कविनगर अवनीश कुमार ने बताया कि हाथापाई में घायल सब्जी विक्रेता को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई. मृत शरीर को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. मृतक के बेटे निखिल की कम्पलेन पर संदीप त्यागी के विरूद्ध गैर इरादतन मर्डर का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है.