श‍िकायतों पर भड़के सीएम योगी, कमिश्‍नर से पूछा- इतने मुकदमे हैं तो बाहर कैसे है भू-माफिया ?

श‍िकायतों पर भड़के सीएम योगी, कमिश्‍नर से पूछा- इतने मुकदमे हैं तो बाहर कैसे है भू-माफिया ?

दो दिनों के दौरे पर गोरखपुर आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में जनता दरबार लगाया। यहां मठ कार्यालय और हिंदू सेवाश्रम दो जगहों पर जनता दरबार लगाया गया था, लेकिन सीएम सिर्फ हिंदू सेवाश्रम में पहुंचे ही फरियादियों से मिले। यहां सीएम ने लोगों की फरियाद सुनी और उन्हें कार्रवाई का भरोसा दिलाया। कार्यालय में सीएम के निर्देश पर अधिकारियों ने लोगों की समस्याएं सुनीं।

इस दौरान सीएम के जनता दरबार में गोरखपुर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों से करीब 100 से अधिक फरियादी पहुंचे। सीएम योगी आदित्यनाथ एक-एक कर फरियादियों के पास गए। सबकी समस्या सुनने के साथ प्रार्थना पत्र लेकर अधिकारियों को कार्रवाई का निर्देश भी दिया। भू माफ‍िया की श‍िकायत पर सीएम ने सख्‍त रुख अपनाया तो अध‍िकारी तुरंत मौके पर दौड़ पड़े।

भू-माफिया पर सख्‍त हुए सीएम


जनता दरबार में भी सीएम योगी का तेवर भू-माफियाओं के खिलाफ काफी सख्त दिखा। सीएम के पास आज भी सबसे अधिक शिकायतें पुलिस से जुड़ी जमीनी विवादों की पहुंची। इस बीच कैंट इलाके के महादेव झारखंडी रनीडीहा की एक महिला​ बिंदू देवी ने योगी का बताया कि वहीं का भू-माफिया ओमप्रकाश पांडेय और उसके सहयोगी तहसील कर्मचारियों की मिलीभगत से उनकी जमीन फर्जी तरीके से बेच दिए। भू-माफिया जमीन लेने के बाद पैसे भी नहीं दे रहा। इतना सुनते ही सीएम बिफर पड़े।


उन्होंने वहां मौजूद अधिकारियों को भू-माफिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का न‍िर्देश द‍िया। इतना सुनते ही अधिकारी सकते में आ गए। इतना ही नहीं, ​सीएम ने अधिकारियों को साफ तौर पर दो टूक कहा कि वे भूम‍ि विवाद के मामलों पर गंभीर हों। भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई तेज करते हुए उनसे सख्ती से निपटा जाए। उन्होंने कमिश्नर से कड़े शब्दों में आश्चर्य जताते हुए पूछा कि जब भू-माफिया के खिलाफ इतने मुकदमें हैं तो यह बाहर कैसे है। उन्होंने वहां मौजूद अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर करते हुए तत्काल कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए।


सबूतों को हटा पुलिस ने लगा ​दी फाइनल रिपोर्ट

वहीं, बेनीगंज एकला नंबर 2 गुलरिहा के रहने वाले झीनक ने सीएम को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि कुछ भू-माफिया दस्तावेज लेखक अधिवक्ता प्रशांत कुमार के सहयोग से उनकी करीब 29 लाख की जमीन का फर्जी ढंग से रजिस्ट्री करा लिए। इस मामले में दर्ज मुकदमें में कैंट थाने के विवेचना अधिकारी अशोक मिश्रा ने अपने पूर्व विवेचना अधिकारी सुनील कुमार वर्मा द्वारा इक्कठा किए गए साक्ष्यों को दरकिनार कर दिया और आरोपियों के प्रभाव में आकर मामले में फाइनल रिपोर्ट लगा दिया। उन्होंने सीएम योगी से मामले की फिर से विवेचना और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की। सीएम के सामने पहुंचे इस तरह के करीब आधा दर्जन मामलों पर सीएम योगी ने नाराजगी जताते हुए सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।


मंदिर के बाहर से लौट गए कई फरियादी

सीएम योगी का फरमान सुनते ही महिला का प्रार्थना पत्र वहां मौजूद कमिश्नर ने ले लिया। पुलिस अधिकारियों के निर्देश पर तत्काल पुलिस व प्रशासन की टीम भू-माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने रवाना हो गई। हालांकि इस बीच लगातार जनता दरबार में सीएम योगी का सख्त रूख देखते हुए अधिकांश फरियादी सीएम योगी से मिल नहीं सके। कई के प्रार्थना पत्र बाहर ही ले लिए गए तो किसी को कार्रवाई का भरोसा दिलाकर वहां से वापस भेज दिया गया।


गायों को खिलाया चना और गुड़, गुल्लू को दुलारा

इससे पहले मंदिर में मुख्यमंत्री की दिनचर्या परंपरागत रही। सुबह उन्होंने सबसे पहले नाथ पंथ के आदि गुरु गोरक्षनाथ के दरबार में हाजिरी लगाई और फिर अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया। मंदिर परिसर का भ्रमण करने के क्रम में मुख्यमंत्री हमेशा की तरह गोशाला गए और करीबा आधा घंटा गायों के बीच गुजारा। इस दौरान सीएम ने गायों को चना और गुड़ खिलाया। साथ ही मंदिर में सीएम योगी के स्वान कालू के नए साथी गुल्लू को भी सीएम ने दुलारा।


धर्मेन्द्र प्रधान से स्थिति की स्पष्ट, CM योगी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा विधानसभा चुनाव

धर्मेन्द्र प्रधान से स्थिति की स्पष्ट, CM योगी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा विधानसभा चुनाव

उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के चुनावी चेहरा तथा नेतृत्व को लेकर चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने शुक्रवार को स्थिति स्पष्ट कर दी। भाजपा प्रदेश मुख्यालय में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने बड़ा बयान दिया।

नरेन्द्र मोदी सरकार में शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ ही उत्तर प्रदेश में भाजपा का चेहरा होंगे। प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ही भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा होंगे। प्रधान ने कहा कि भाजपा ने फिलहाल तय किया है कि अपना दल तथा निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। इसके साथ ही अन्य दलों से भी वार्ता जारी है। 2022 में भाजपा सहयोगी दलों के साथ मिलकर पीएम मोदी व सीएम योगी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं के दम पर चुनाव लड़ेगी।


प्रधान ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ पर जनता का अटूट भरोसा है। 2022 में उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा व सहयोगी दलों की सरकार बनेगी। सरकार व संगठन के काम व समन्वय के कारण हम जीतेंगे। हम सभी समाज और समुदाय को साथ लेकर चुनाव लड़ेंगे। भाजपा ने इस बीच में बहुत सारी राजनीतिक ताकत को अपने साथ जोड़ा है। इसी दौरान ही हमने सारा चुनाव का ताना बाना बुना है।