सेना ने किया लद्दाख व कश्मीर घाटी के लोगो को कोरोना वायरस के बारे में जागरूक

सेना ने किया लद्दाख व कश्मीर घाटी के लोगो को कोरोना वायरस के बारे में जागरूक

लेह में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज मिलने के बाद सेना ने लद्दाख व कश्मीर घाटी में लोगों को इस बारे में जागरूक करना प्रारम्भ कर दिया है. इसके लिए लेह स्थित एसएनएम अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती नुब्रा निवासी 36 वर्षीय मरीज की स्वास्थ्य पर नियमित नजर रखी जा रही है.


सार
लेह में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज मिलने के बाद सेना ने लद्दाख व कश्मीर घाटी में लोगों को इस बारे में जागरूक करना प्रारम्भ कर दिया है.

 
डॉक्टरों का बोलना है कि निमोनिया व एक्यूट रेसप्रेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम से पीड़ित होने के कारण उसके लक्षण कोरोना वायरस के लक्षणों से मिलते हैं. मरीज के सैंपल की रिपोर्ट अभी नहीं आई है.

लेह में तैनात सेना की यूनिटों में कोरोना को लेकर एहतियातन अलर्ट किया गया है. सेना ने अपने स्तर पर इस बीमारी के मामले में आम लोगों को जागरूक करना प्रारम्भ कर दिया है. इसके लिए सेना लोगों के बीच जा रही है. चाइना की सीमा से सटे लेह में लोकल लोगों के साथ बड़ी संख्या में सेना भी तैनात है.

लद्दाख स्वास्थ्य निदेशक ने कही ये बात
स्वास्थ्य निदेशक लद्दाख डाक्टर फुंतसोग अंगुचुक के अनुसार एसएनएम अस्पताल लेह में फ्यांग गांव निवासी जिस 52 वर्षीय आदमी की मृत्यु हुई है, वह पलमोनरी ट्यूबरक्लोसिस से पीड़ित था. उसे खांसी, सांस लेने में तकलीफ व बुखार की शिकायत होने पर 27 जनवरी को अस्पताल में भर्ती किया गया था.

उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई. इस मरीज और उसके परिवार के सदस्यों का हाल ही में लद्दाख से किसी अन्य स्थान जाने का कोई जानकारी नहीं मिली है.