जला हुआ युवक का मृत शरीर मिलने से मचा हड़कंप

जला हुआ युवक का मृत शरीर मिलने से मचा हड़कंप

लक्खीबाग पुलिस चौकी से महज 200 मीटर की दूरी पर एक खंडहर में युवक का जला हुआ मृत शरीर मिलने से हड़कंप मच गया. उसके चेहरे पर चोट के निशान भी मिले हैं. घटनास्थल की स्थिति व मृत शरीर की हालत देखकर ऐसा लग रहा था मानो युवक की मर्डर की गई हो.

 पुलिस भी इस संभावना से मना नहीं कर रही. हालांकि, पुलिस का बोलना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा कि युवक की मर्डर हुई या फिर उसकी जान किसी हादसे में गई है. बता दें कि युवक कबाड़ी था.

मंगलवार को दोपहर करीब ढाई बजे पुलिस को सूचना मिली कि रेलवे स्टेशन के समीप एक खंडहर में मृत शरीर पड़ा हुआ है. इसपर एसपी सिटी श्वेता चौबे, सीओ सिटी शेखर चंद सुयाल व नगर कोतवाल शिशुपाल सिंह नेगी घटनास्थल पर पहुंचे. लक्खीबाग पुलिस चौकी के एसएसआइ प्रवेश रावत ने बताया कि मृतक की पहचान सोनू (35 वर्ष) पुत्र बजीरा निवासी डोईवाला के रूप में हुई. मृतक की पहचान उसके भाई मगना ने की. उसके रहने का कोई ठिकाना नहीं था. वह इधर-उधर घूमता रहता था.

घटनास्थल पर मिला मोबाइल, इंजेक्शन व दवाइयां

घटनास्थल पर जाँच के दौरान फॉरेंसिक टीम को मोबाइल, इंजेक्शन व कुछ दवाइयां मिली हैं. साथ ही एक कपड़ा मिला, जो व्हाइटनर से भीगा हुआ था. इससे संभावना जताई जा रही है कि वो नशे का आदी था. खंडहर से कुछ अन्य सामान भी पुलिस को मिला है.

बुरी तरह जला हुआ था शव

सीओ सिटी शेखर चंद सुयाल ने बताया कि मृत शरीर बुरी तरह जला हुआ था. हाथ की अंगुलियां अलग पड़ी थीं. खंडहर की हालत देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे वहां नशेड़ियों का जमावड़ा लगा रहता हो. जहां मृत शरीर मिला, वहां केवल जाने का रास्ता बना है. मृतक के चेहरे पर चोटों के निशान भी हैं. फिलहाल, कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

युवती की मर्डर के आरोपित को फांसी हो

गत दिनों गणेशपुर में हुई युवती की मर्डर के मुद्दे में अंतर्राष्ट्रीय ङ्क्षहदू परिषद उत्तराखंड ने राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर आरोपित को फांसी देने की मांग की.

मंगलवार को संगठन के पदाधिकारी कृपाल सिंह नेगी की अध्यक्षता में डीएम ऑफिस पहुंचे व जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा. राष्ट्रीय बजरंग दल के प्रदेश अध्यक्ष बिजेंद्र सिंह ने बताया कि बीते पांच जनवरी को गणेशपुर में युवती की बेरहमी से मर्डर करने के बाद आरोपित ने मृत शरीर को जलाने का कोशिश किया. दल ने मांग की कि इस मुकदमे को फास्ट ट्रैक में चलाकर आरोपित को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए. इस मौके पर मनीष, नरेश, हर्षित, हेमंत, आलोक, शैलेंद्र आदि उपस्थित रहे.

दीपक की मृत्यु के मुद्दे की हो जांच

उत्तराखंड संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच ने मंगलौर में हुई दीपक की मृत्यु के मुद्दे में आरोपितों के विरूद्ध कार्रवाई करने व स्वजनों को मुआवजा देने की मांग की है. इस विषय में मंच ने गवर्नर व पुलिस महानिदेशक को ज्ञापन प्रेषित कर गुहार लगाई है.

ज्ञापन में मंच ने बोला है कि पांच जनवरी को व्हाट्सएप पर एक वीडियो देखी जिसमें एक लड़की मदद की गुहार लगा रही थी. लड़की का बोलना था कि उसके भाई दीपक को कोई घर से बुलाकर ले गया. थाने में उसके साथ हाथापाई कर मर्डर कर दी गई. मंच के प्रदेश संयोजक दौलत कुंवर का आरोप लगाया कि पुलिस कह रही है कि दीपक ने आत्महत्या की है, जबकि सच्चाई यह है कि दीपक की पुलिस कस्टडी में मर्डर की गई है. इसलिए मुद्दे की गंभीरता से जाँच की जानी चाहिए.