डीएम ने गंगा कटान क्षेत्र का किया निरीक्षण

डीएम ने गंगा कटान क्षेत्र का किया निरीक्षण

गंगा का जलस्तर प्रत्येक दिन घट और बढ़ रहा है. पश्चिम के बांधों से बराबर पानी छोड़ा जा रहा है. इससे कभी भी गंगा उफना सकती हैं. जिसे देखते हुए आज उन्नाव जिलाधिकारी ने रविदास नगर कटान क्षेत्र का निरीक्षण किया. जहां उन्होंने उपस्थित शारदा नहर सिंचाई खंड के ऑफिसरों से कटान रोकने के लिए लगाए गए जिओ ट्यूब की हकीकत देखी. इसके साथ ही राजस्व कर्मियों को गंगा के जलस्तर पर बराबर नजर बनाये रखने के निर्देश दिए.

गंगा का जलस्तर बढ़ने के कारण पिछले कई वर्षों से रविदास नगर बस्ती के सामने रूक-रूक कर कटान हो रहा है. कटान में कई मकान, खेतिहर भूमि और एक मंदिर कट कर गंगा में समां चुके हैं. इस बार बस्ती को बचाने के लिये उन्नाव शारदा नहर सिंचाई खंड ने जिओ बैग और परक्यूपाइन डालने का काम किया है. जिससे कटान रुक गई है.

उन्नाव डीएम ने गंगा कटना क्षेत्रों को निरीक्षण किया<span class='red'>.</span>

उन्नाव डीएम ने गंगा कटना क्षेत्रों को निरीक्षण किया.

बुधवार सुबह जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, एसडीएम अंकित शुक्ला और सिंचाई विभाग के अधिकारी रविदास नगर कटान स्थल पहुंचे. जहां कटान रोकने के लिये डाले गये. जिओ ट्यूब की हकीकत देखी, वहीं पर जिओ ट्यूब के बीच में डाले गये परक्यूपाइन का भी जायजा लिया.

डीएम ने बताया कि बाढ़ से पहले आंकलन किया जा रहा है कि तेजी से जलस्तर बढ़ने पर डाले गये जिओ ट्यूब कहां तक कारगर रहेंगे. कटान किस हद तक रुक पाएगा. उन्होंने सिंचाई विभाग के ऑफिसरों से भी चर्चा की. इसके साथ ही उन्होंने सिंचाई विभाग को निर्देशित किया कि कटान पर बराबर नजर बनाए रखे. इससे किसी को कोई हानि न पहुंच सके.

इस दौरान उन्होंने गंगा के जलस्तर के बारे में भी जानकारी की. जहां जलस्तर बढ़ने पर उन्होंने राजस्व कर्मियों को सावधान रहने के निर्देश दिये और बराबर जलस्तर पर नजर बनाये रखने को बोला है. जलस्तर बढ़ने, बाढ़ और कटान की जानकारी देने के लिये कहा. जलस्तर बढ़ने पर तटवर्ती इलाकों के हाल जानने के लिये भी राजस्व कर्मियों को तैनात किया गया है.