लखनऊ में गुड़ महोत्सव, सीएम योगी करेंगे उद्घाटन

लखनऊ में गुड़ महोत्सव, सीएम योगी करेंगे उद्घाटन

लखनऊ: यूपी की राजधानी यानि नवाबों का शहर लखनऊ अपनी तहज़ीब के लिए मशहूर है। वैसे तो लखनऊ अपने दशहरी आम की मिठास के लिए मशहूर है। लेकिन जल्द ही इस शहर के लोग गुड़ के गुण, मिठास, रेंज और अन्य खूबियों से मिलने वाले हैं। ये समारोह होगा, राज्य गुड़ महोत्सव। ये आयोजन पिछले साल ही होना था, लेकिन कोरोनाकाल की वजह से इसे रद्द करना पड़ा था। अब चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग फिर इसकी तैयारियों में लग गए हैं। कुछ दिनों पहले विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय भूस रेड्डी की अध्यक्षता में हुई बैठक में इसको लेकर चर्चा हुई।

जल्द होगी समारोह की तिथि और जगह की घोषणा
ऐसा आस लगाया जा रहा है कि जल्द ही आयोजन के तिथि और जगह की भी घोषणा हो जाएगी। वैसे हो सकता है कि इसकी डेट 13 और 14 फरवरी हो सकती है। इसमें गुड़ की ब्रैंडिंग और उससे जुड़े उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा। ज्यादा से ज्यादा लोग महोत्सव में शामिल होंगे। नवाबों के शहर के लोग गुड़ के गुण और रेंज से वाकिफ हों, जिसके लिये इसका व्यापक प्रचार-प्रसार भी होगा। इस आयोजन में पूरे यूपी भर के प्रगतिशील गन्ना किसानों को आमंत्रित किया जाएगा। जिसमें कृषि और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के बहुत से विशेषज्ञ उत्पादक भी हिस्सा लेंगें।

गुड़ के चॉकलेट से लेकर मिठाई और कैंडी तक के होंगे स्टॉल
अधिकारियों का कहना है कि, ”महोत्सव में गुड़ की चाकलेट से लेकर मिठाई,कैंडी,खीर आदि के उत्पादों को प्रदर्शित किया जाएगा। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और गन्ना अनुसंधान संस्थान ने मिलकर अलग-अलग फ्लेवर में चॉकलेट और दूसरे उत्पाद तैयार किए हैं। मुजफ्फरनगर में तो गुड़ के प्रसंस्कृत उत्पादों की सौ से ज्यादा श्रेणी है। इस महोत्सव में आये किसान इन्हें जानेगें। जो किसान इसमें इच्छु होंगे उन्हें बाद में प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

फायदेमंद है गुड़
विशेषज्ञों के मुताबिक गुड़ खुद में एक संपूर्ण आहार है। औषधीय गुणों के साथ ये ऊर्जा का भी स्रोत है। जिससे शरीर को जरूरी पोषक तत्व (आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन ए और बी) मिलते हैं। यही खास वजह है कि अलग-अलग स्वाद और खुशबू में मौजूद मुजफ्फरनगर के गुड़ और इसके प्रसंस्करित उत्पादों की देश और दुनिया में इतनी मांग है कि आपूर्ति नहीं हो पाती। गन्ना उत्पादक दुसरे जिले भी गुड़ के प्रसंस्करण के जरिए गन्ने को संभावनाओं की खेती बना सकते हैं।

गुड़ के श्रेणी और खूबियों को जानेंगें किसान
‘वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रॉडक्ट’ (ओडीओपी) सीएम योगी की बेहद महत्वाकांक्षी योजना है। गुड़ मुजफ्फरनगर और अयोध्या का ओडीओपी है। मुजफ्फरनगर में गुड़ महोत्सव आयोजित हो चुका है। किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए योगी सरकार कृषि आधारित उत्पादों की ब्रैंडिंग और उसका अच्छा मूल्य दिलवाने का लगातार प्रयास कर रही है। इसी क्रम में ये आयोजन करवाया जा रहा है। इससे न केवल अयोध्या उससे सटे बस्ती और अवध एवं पूर्वांचल के गन्ना उत्पादक और जिले के गन्ना किसानों को भी फायदा होगा। वह भी गुड़ के दुसरे प्रसंस्कृत उत्पादों के बारे में जानेंगे और ऐसा करने को प्रेरित होंगे।

प्रसंस्करण से आय बढ़ेगी और रोजगार भी
गुड़ के प्रसंस्करण से किसानों की आय बढ़ेगी। स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर मिलेंगे। गन्ना बेचने के लिए अब वो चीनी मिलों के मोहताज नहीं रहेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ इसका उद्घाटन करेंगे।


सपा पर बरसे CM योगी, यहां गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं

सपा पर बरसे CM योगी, यहां गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं

लखनऊ: विधान परिषद में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के भाषण के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) के एमएलसी नाराज हो गए और कई शब्दों पर आपत्ति जताई। जिस पर मुख्यमंत्री ने बोला कि सपा के लोगों को यहां पर ज्यादा गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं है, सबके पेट का दर्द दूर कर दूंगा।

सुनने की आदत डाल लें सपा के सदस्य
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जो जिस भाषा में समझता है, उसे उसी भाषा में समझाया जाता है। पहले सदन में अपना आचरण सुधारे, सपा के लोग सुनने की आदत डाल लें, सबके पेट का दर्द दूर कर दूंगा। दरअसल, सीएम गुरुवार को विधान परिषद में राज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर बोल रहे थे, तभी उन्होंने किसानों का मुद्दा उठाया। जिस पर समाजवादी पार्टी के सदस्य हंगामा करने लगे।


इस बात पर भड़के सपा सदस्य
योगी ने मुस्कुरा कर कहा कि आप लोग सदन की गरिमा को सीखिया। मुझे पता है कि आप किस तरह की भाषा और किसी प्रकार की बातें सुनते हैं, उसी तरह का डोज समय-समय पर देता हूं। सीएम योगी की ये बातें सुन सपा के सदस्य गुस्से में आ गए और हंगामा करने लगे। इसके बाद सीएम योगी का भी आग बबूला हो गए और कहा कि यहां गर्मी दिखाने की जरूरत नहीं।

सदन में चिल्लाने से काम नहीं चलता
ये सदन है और इसकी मर्यादा का पालन करिए। जो जैसी भाषा को समझेगा,उसे उसी भाषा में समझाया जाएगा। अगर बोलते हैं तो सुनने की भी आदत डालिए। उन्होंने कहा कि सदन में चिल्लाने से काम नहीं चलता। विश्वसनीयता का संकट खत्म हुआ, स्टेट गेस्ट हाउस कांड कौन नहीं जानता है।

आगे सीएम योगी ने कहा कि आजादी से पहले नेता सम्मानित शब्द था, लेकिन आजादी के बाद इस शब्द का सम्मान खत्म हो चुका है। इसके लिए सभी जिम्मेदार हैं। हमें इस बारे में सोचना चाहिए। जनता को प्रेरित करना हम सभी का दायित्व है।


झुमरी तिलैया की शिप्रा सिन्हा ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को उनकी शक्ति का एहसास कराने के लिए एक कविता लिखी है। इस कविता को लोग काफी पसंद कर रहे हैं।        International Women's Day पर अदाकारा जरीन खान ने स्त्रियों को दी खास सलाह, बोलीं...       सिंगर Harshadeep Kaur ने सोशल मीडिया पर दिखाई बेटे की झलक, लिखा...       दिनभर में 7 बार इस समय जरूर पीएं पानी, फिर देखें इसका कमाल       जानें कैसे इस्तेमाल करें Menstrual Cups, महिलाएं छोड़ें लज्जा और झिझक       यहां मंदिर में रखी मातारानी मूर्ति को भी होते हैं ये... जानिए बड़ा रहस्य       पेट्रोल-डीजल केंद्र और प्रदेश को मिलकर सस्ता करना चाहिए : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण       मोदी सरकार बदल सकती है ये बड़ी नियम, कर्मचारियों को सप्ताह में चार दिन करना होगा काम       महाशिवरात्रि पर राहु और केतु की शांति के लिए करें उपाय       आज फाल्गुन मास की दशमी तिथि है, जानें अभिजीत मुहूर्त और राहु काल       IPL 2021 का शेड्यूल जारी, जानिए कब-कब खेले जाएंगे मैच       विराट कोहली ने विवियन रिचर्ड्स को दी जन्मदिन की बधाई       UP: अब एसिड अटैक पीड़ितों और दिव्यांगों को भी लगेगी वैक्सीन       शाहजहांपुर में 26 साल बाद दुष्कर्म पीड़िता ने लगाई न्याय की गुहार       पाक को महंगी पड़ी चीन की यारी, भारत के विमानों के आगे नहीं ठहरा उसका जेएफ-17       जल्द निपटा लें ये जरूरी काम, 31 मार्च है अंतिम तारीख       अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर खास, उन पुरुषों को सलाम जिन्होंने महिलाओं को दिया मुकाम       भारत व इंग्लैंड के बीच खेले जाने वाले चौथे टेस्ट में जानिए कैसा रहेगा मौसम व पिच का हाल       कब और कहां देखें भारत-इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच       भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड के खेमे में खलबली