यूपी में कोरोना रिकवरी, सीएम योगी ने दिया ये निर्देश

यूपी में कोरोना रिकवरी, सीएम योगी ने दिया ये निर्देश

लखनऊ : सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में कोविड-19 की 97 प्रतिशत से अधिक की रिकवरी दर पर संतोष व्यक्त करते हुए कोविड-19 से बचाव व उपचार की व्यवस्थाओं को पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कोरोना के सम्बन्ध में प्रत्येक स्तर पर पूर्ण सावधानी बरती जाए, इस सम्बन्ध में थोड़ी लापरवाही भी भारी पड़ सकती है।

अनलॉक व्यवस्था
सीएम योगी आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान प्रगति पर है। अभियान के आगामी चरण के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स का डाटा बेस तेजी से तैयार किए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन अभियान की प्रत्येक कार्यवाही भारत सरकार द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देश एवं मानकों के अनुरूप की जाए।

सीएम ने कोविड-19 के उपचार की प्रभावी व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश देते हुए कहा कि सभी कोविड अस्पतालों में आवश्यक दवाओं, बैकअप सहित ऑक्सीजन तथा मेडिकल उपकरणों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने में टेस्टिंग के महत्वपूर्ण योगदान को ध्यान में रखते हुए प्रदेश में टेस्टिंग कार्य पूरी क्षमता से किया जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस सिस्टम प्रभावी ढंग से संचालित रहें। 

सीएम योगी ने  कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में लोगों को निरन्तर जागरूक किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि इस कार्य में विभिन्न प्रचार माध्यमों के साथ-साथ पब्लिक एड्रेस सिस्टम का व्यापक स्तर पर उपयोग किया जाए। उन्होंने जनपदों में स्थापित इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश भी दिए।

योगी ने कहा कि ई-संजीवनी एप का व्यापक प्रचार-प्रसार किया करते हुए अधिक से अधिक लोगों को इसके माध्यम से ऑनलाइन चिकित्सीय परामर्श की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। बैठक में यह अवगत कराया गया कि उत्तर प्रदेश देश का सर्वाधिक ई-कंसल्टलेशन प्रदान करने वाला राज्य बन गया है। प्रदेश में में ई-संजीवनी एप के माध्यम से अब तक 04 लाख 16 हजार 512 व्यक्तियों द्वारा ऑनलाइन चिकित्सीय परामर्श प्राप्त किया गया है, जो कि देश में सर्वाधिक है।

बैठक में मुख्य सचिव श्री आर के तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक श्री हितेश सी अवस्थी, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई एवं सूचना श्री नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री श्री एसपी गोयल, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना श्री संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव पशुपालन श्री भुवनेश कुमार, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री आलोक कुमार, राहत आयुक्त श्री संजय गोयल, सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार, सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के पुरस्कारों की घोषणा

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के पुरस्कारों की घोषणा

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी का प्रतिष्ठित बी.एम.शाह पुरस्कार मुम्बई के चन्द्रप्रकाश द्विवेदी को व सफदर हाशमी पुरस्कार मुम्बई के ही विपुल कृष्ण नागर को दिया जाएगा। जबकि अकादमी की रत्न सदस्यता डा.पूर्णिमा पाण्डे लखनऊ, उस्ताद युगान्तर सिन्दूर लखनऊ, कुंवर जी अग्रवाल वाराणसी और श्रीमती उर्मिला श्रीवास्तव मीरजापुर को प्रदान की जाएगी। बैठक के बाद कुल 17 पुरस्कार गुरुवार को घोषित कर दिये गये।

अकादमी के सचिव तरुण राज ने बताया कि आज हुई कार्यकारिणी समिति एवं सामान्य परिषद की बैठकें अकादमी के अध्यक्ष पद्मश्री डा.राजेश्वर आचार्य की अध्यक्षता में अकादमी परिसर में आहूत की गयी थी। बैठक में वर्ष-2020 के लिए अकादमी पुरस्कार, सफदर हाशमी पुरस्कार एवं बी.एम.शाह पुरस्कार के सम्बन्ध में विचार विमर्श के बाद पुरस्कारों की घोषणा की गई। उन्होंने बताया कि उपसमितियों की इन संस्तुतियों पर गहन विचार-विमर्श के उपरान्त सामान्य परिषद द्वारा अकादमी पुरस्कार में डा.बृजेश्वर सिंह बरेली (नाट्य कला उन्नयन); महन्त प्रो.विशम्भरनाथ मिश्र वाराणसी तथा महाराज कुमार अनन्त नारायण सिंह वाराणसी (संगीत कला उन्नयन) को संयुक्त रूप से चयनित किया गया।


अन्य अकादमी पुरस्कारों में डा.शरदमणि त्रिपाठी, गोरखपुर (शास्त्रीय गायन); ब्रह्मपाल नागर, गौतमबुद्धनगर (रागिनी लोकगायन); रामेश्वर प्रसाद मिश्र लखनऊ (शास्त्रीय गायन); विशाल कृष्णा वाराणसी (कथक नृत्य); भूरा यादव, तिदौली महोबा (राई लोकनृत्य); अनिल मिश्रा गुरुजी लखनऊ (नाट्य निर्देशन); अष्टभुजा मिश्र वाराणसी (नौटंकी-अभिनय व निर्देशन); पं.विनोद लेले दिल्ली (तबला वादन) और फतेह अली खां वाराणसी (शहनाई वादन) का चयन किया गया। सचिव ने बताया कि बी.एम.शाह पुरस्कार के लिए चन्द्रप्रकाश द्विवेदी मुम्बई (निर्देशन) तथा सफदर हाशमी पुरस्कार के लिए विपुलकृष्ण नागर मुम्बई (निर्देशन व अभिनय) के नामों की घोषणा की गयी।


साथ ही अकादमी रत्न सदस्यता के लिए डा.पूर्णिमा पाण्डे, लखनऊ (कथक नृत्य); उस्ताद युगान्तर सिन्दूर, लखनऊ (सुगम गायन); श्री कुंवर जी अग्रवाल, वाराणसी (रंगमंच समीक्षा); श्रीमती उर्मिला श्रीवास्तव, मीरजापुर (लोक गायन) के नामों की घोषणा की गयी। अकादमी पुरस्कार के लिए लगभग 344 संस्तुतियां प्राप्त हुई थीं जिस पर विभिन्न उप समितियों द्वारा गहन विचार-विमर्श के उपरान्त अपनी संस्तुतियां दी गयीं थी। ये पुरस्कार समारोह आयोजित कर प्रदान किये जाएंगे। 


इनफर्टिलिटी पर इमोशनल संदेश देता एक्ट्रेस मोना सिंह का वीडियो हुआ वायरल       Ameesha Patel पर लगा ढाई करोड़ रुपए गबन करने का आरोप       नियमित रूप से करें खजूर का सेवन फिर देखें इसका कमाल       सौंफ के ये फायदे जानकर हो जाएंगे हैरान आप       हर किसी को करना चाहिए गर्म पानी का सेवन       सांसों की बदबू से छुटकारा पाने के लिए करें ये घरेलू उपाय       दुबलेपन से परेशान है तो, इन नेचुरल तरीको से बढ़ाया जा सकता है वजन       जानिए, अचार स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है या नुकसानदायक?       मिनटों में दूर होगा सिरदर्द, अपनाएं ये घरेलू उपाय       हर महिला को पता होनी चाहिए इस बीमारी से जुड़ी यह जानकारी       शरीर को कई गंभीर बीमारी से लड़ने की शक्ति देता हैं बेर       कैंसर के खतरे को कम करने से लेकर आंखों को स्वस्थ रखने में कारगर है रास्पबेरी       कप्तान विराट कोहली ने ऐसे किया बचाव, धूल उड़ती पिच पर टिक नहीं पाए बल्लेबाज       16 चौके व 2 छक्कों की मदद से बनाए 115 रन, प्रियम गर्ग ने अपनी टीम के लिए लगाया शतक       Road Safety World Series 2021 में इंग्लैंड की टीम की कप्तानी करेगा ये दिग्गज       क्रिकेट करियर में 972 विकेट चटकाने वाले भारतीय गेंदबाज ने की संन्यास की घोषणा       दो विश्व कप जीतने वाले खिलाड़ी यूसुफ पठान ने लिया संन्यास       डीजल-पेट्रोल मूल्य वृद्वि के खिलाफ  कांग्रेस का मशाल जुलूस       ग्रिजली विद्यालय में ऑनलाइन सीसीए के तहत कार्यक्रम आयोजित       डिजिटल डिवाइस के माध्यम से छात्र-छात्राओं कराया जायेगा पठन-पाठन, जिले के 25 हाई स्कूल में स्मार्ट क्लास की स्थापना