उत्तर प्रदेश

चित्रकूट में गर्मी से लोग परेशान, 46 डिग्री पहुंचा तापमान,बुखार और पेटदर्द के चलते तीन की मौत

चित्रकूट में गर्मी से जन जीवन अस्त-व्यस्त है. यहां का तापमान 46 डिग्री तक पहुंच गया है. जिला हॉस्पिटल में बुखार, पेटदर्द और डायरिया के रोगियों की संख्या बढ़ रही है. गुरुवार को 10 रोगी भर्ती हुए. बुखार और पेटदर्द के चलते तीन की मृत्यु हो गई.

जिले में एक पखवाड़े से अधिक समय से भयंकर गर्मी पड़ रही है. धूप में लोगों का घरों से निकलना दुश्वार है. गर्मी के चलते उल्टी, दस्त और पेट दर्द के रोगी जिला हॉस्पिटल में अधिक भर्ती हो रहे हैं. कर्वी कोतवाली भीतर द्वारिकापुरी निवासी छोटेलाल (55) को भाई राजेंद्र ने बुखार और पेट दर्द के चलते भर्ती कराया. जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. इसके अतिरिक्त तरौंहा निवासी जौहरा वीबी (70) को परिजन जिला हॉस्पिटल ले गए. जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. जिससे परिजनों में शोक छा गया. पुलिस को सूचना दिए बगैर शवों को अपने घर ले गए.

इसके अतिरिक्त बिहार राज्य के शिवहड़ जिले के तरियानी थना के पहाड़पुर निवासी दादा राम इकबाल ने कहा कि नाती सुभाष कुमार (22) अहमदबाद-बरौनी ट्रेन से वापस अपने घर आ रहा था. ट्रेन में उसको बुखार और पेटदर्द की कम्पलेन होने लगी. ट्रेन चित्रकूटधाम कर्वी रेलवे स्टेशन पहुंची तो आरपीएफ ने उसे जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया. जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. घटना की जानकारी परिजनों को हुई तो कोहराम मच गया. पुलिस ने मृतशरीर का पोस्टमॉर्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया.

अस्पताल में इनको कराया गया भर्ती
जिला हॉस्पिटल में ओरा निवासी रामसेवक (80), जगदीशगंज निवासी लवकुश (18), भारतपुर निवासी अनीस (22), छीबों निवासी काशी (40), बल्दाऊगंज निवासी मनीष कुमार की दो वर्षीय पुत्री अनन्या, राजापुर निवासी शुभम (19), तरौंहा निवासी बबलू (21), सोनेपुर निवासी राधा (25), चकजाफर निवासी सिराज का तीन वर्षीय पुत्र अयान, पडरी निवासी लवकुश की सात वर्षीय पुत्री खुशी को उल्टी दस्त और बुखार के चलते भर्ती कराया गया है.

लू की चपेट में आने से ट्रक खलासी की मौत
गिट्टी खाली कर ट्रक से लौट रहे खलासी की रास्ते में तबियत बिगड़ने लगी. चालक ने उसे जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया. जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया. घटना की जानकारी होने पर परिजनों में कोहराम मच गया. पुलिस ने मृतशरीर का पंचनामा कर पोस्टमॉर्टम कराया. परिजनों ने कहा कि लू लगने से उसकी मृत्यु हुई है.

बांदा जिले के बबेरू थाना के उमरहनी निवासी बड़े भाई शिवानंद ने कहा कि छोटा भाई छोटेलाल (45) और बाघा बिसंडा निवासी ट्रक चालक बृजेंद्र कुमार के साथ बुधवार की सुबह भरतकूप से गिट्टी ट्रक में लादकर प्रयागराज जिला गए थे. वहां से वह दोपहर को वापस लौट रहे थे. वह पहाड़ी क्षेत्र के बकटा गांव के पास पहुंचे तो छोटेलाल की तबियत खराब होने लगी और बेहोश हो गया. ट्रक चालक ने उसे जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया और परिजनों को सूचना दी. जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. वह तीन भाईयों में सबसे छोटा था. उसके एक पुत्र और दो पुत्रियां हैं. वह ट्रक में खलासी का काम करता था. पत्नी कलावती का रो-रोकर हाल बेहाल है. परिजनों ने कहा कि लू लगने उसकी मृत्यु हुई है.

सड़कों पर सन्नाटा पसरा
जून माह का गुरुवार इस माह का सबसे गर्म दिन साबित हुआ. तेज धूप के कारण दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा. गुरुवार को अधिकतम तापमान 46 डिग्री पहुंच गया. गर्मी से लोग तिलमिला उठे. जो लोग सड़कों पर निकले वह पूरी तरह से चेहरे और सिर को बांधकर निकले. गर्मी से जनमानस के साथ ही पशु पक्षी भी बेहाल दिखे. पानी के लिए इधर-उधर भटकते रहे. नौतपा खत्म हो चुका है पर ज्येष्ठ माह में मौसम साफ होने से गर्मी चरम पर पहुंच रही है.

Related Articles

Back to top button