टीम के हेड कोच मिस्बाह-उल-हक ने शोएब अख्तर पर अप्रत्यक्ष रूप से साधा निशाना

 टीम के हेड कोच मिस्बाह-उल-हक ने शोएब अख्तर पर अप्रत्यक्ष रूप से साधा निशाना

शोएब अख्तर गुरुवार को पाक क्रिकेट टीम के मैनेजमेंट पर जमकर बरसे. दरअसल, इंग्लैंड व पाक के बीच हो रहे पहले टेस्ट मैच में पाक क्रिकेट टीम के पूर्व कैप्टन सरफराज अहमद प्लेइंग इलेवन में भी नहीं हैं.

 वह टीम के 12वें खिलाड़ी हैं. पाक की पहली पारी के दौरान वह मैदान पर ड्रिंक्स व बल्लेबाज के लिए जूते ले जाते हुए दिखे. अख्तर को यह बात नागवार गुजरी. वह भड़क गए.

उन्होंने टीम के पूर्व कैप्टन से ऐसा करवाने पर टीम प्रबंधन की कड़ी आलोचना की है. हालांकि, टीम के हेड कोच मिस्बाह-उल-हक ने उन पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधा है. दिन का खेल समाप्त होने के बाद होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस विषय में मिस्बाह-उल-हक से सवाल किया गया. पत्रकार ने उनसे बोला था कि सरफराज से इस पर मिस्बाह ने बोला कि ऐसा पाक में ही होने कि सम्भावना है.

शोएब अख्तर के हवाले से पाक क्रिकेट ने लिखा, ‘मुझे यह तस्वीर देखकर जरा भी अच्छा नहीं लगा. अगर आप कराची के लड़के को आदर्श बनाना चाहते हैं तो यह गलत है. आप एक पूर्व कप्तान, जिसने चार वर्ष तक टीम की कप्तानी की है. पाक को चैंपियंस ट्रॉफी दिलाई है. आप उसके साथ ऐसा नहीं कर सकते. आपने उन्हें जूते पकड़ने वाला बना दिया है. सरफराज ने जूते उठा भी लिए थे तो उन्हें रोकना चाहिए था. यह बहुत निराशाजनक है. मैंने तो कभी वसीम अकरम से जूते नहीं उठवाए.’

वहीं, पत्रकार के सवाल पूछने पर मिस्बाह उल हक ने कहा, ‘नंबर वन जो यह जो बात है, यह पाक में ही हो सकती है. मुझे अपना याद है कि मैं ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध कैप्टन था, मैं बाहर बैठा था व मैं 12वें खिलाड़ी के तौर पर ड्रिंक्स लेकर मैदान पर गया था. मेरे ख्याल में इसमें न कोई शर्म होनी चाहिए. सरफराज बहुत जबरदस्त इंसान भी है, प्लेयर भी है.’

मिस्बाह ने कहा, ‘आप जानते हैं कि यह एक टीम गेम है. जब आपके 3-4 लड़के बाहर हैं व आपके ज्यादा प्लेयर्स ने बारी-बारी जाकर प्रैक्टिस करनी है स्लॉट में, तो जो बंदा उपलब्ध होगा, उसको सहायता करनी है प्लेयर्स की. तो मेरा मानना है कि यह कोई बेइज्जती वाला मुद्दा नहीं है. यह तो उनके व हमारे लिए बहुत सम्मान की बात है. यह एक अच्छी टीम की निशानी है.’