स्पोर्ट्स

Ranji Trophy 2023-24: मुंबई ने आठ साल का इंतजार हुआ खत्म, रणजी ट्रॉफी का खिताब किया अपने नाम

घरेलू क्रिकेट की कद्दावर टीम मुंबई ने आठ वर्ष का प्रतीक्षा समाप्त करते हुए अपना ही रिकॉर्ड बेहतर करके 42वीं बार रणजी ट्रॉफी खिताब जीता टूर्नामेंट के इतिहास में 90 में से 48वीं बार मुंबई फाइनल में पहुंची थी मुंबई ने अंतिम बार रणजी ट्रॉफी का खिताब 2015-16 में जीता था मुंबई ने उस समय फाइनल मुकाबले में सौराष्ट्र की टीम को हराया था और खिताब पर कब्जा जमाया था

मुंबई ने विदर्भ को जीत के लिए दिया था 538 रनों का बड़ा लक्ष्य

वानखेड़े स्टेडियम पर खेले गए फाइनल का नतीजा लगभग उसी समय तय हो गया था जब विदर्भ को 538 रन का लगभग नामुमकिन सा लक्ष्य मिला था विदर्भ के कप्तान अक्षय वाडकर (102) और हर्ष दुबे (65) ने हालांकि पूरे पहले सत्र में मुंबई के गेंदबाजों को परेशान किया विदर्भ ने पांच विकेट पर 248 रन से आगे खेलना प्रारम्भ किया था और उसे 290 रन और चाहिये थे विदर्भ की टीम 368 रन पर आउट हो गई

विदर्भ के अक्षय वाडकर ने इस वर्ष पहला शतक जमाया और सत्र में 600 रन का आंकड़ा पार किया

अक्षय वाडकर ने इस वर्ष पहला शतक जड़ने के साथ ही सत्र में 600 रन का आंकड़ा भी पार किया वहीं दुबे ने प्रथम श्रेणी कैरियर में दूसरा अर्धशतक जमाया दोनों ने 194 मिनट और 255 गेंद तक चली साझेदारी निभाई दूसरे सत्र का खेल प्रारम्भ होने के कुछ देर बाद ही वाडकर को तनुष कोटियान ने आउट किया कोटियान ने 95 रन देकर चार विकेट लिये यह साझेदारी टूटने के बाद विदर्भ की हार पर लगभग मुहर लग गई विदर्भ दो बार खिताब जीतने के बाद तीन बार फाइनल हार गया है

तनुश कोटियन ने की खतरनाक गेंदबाजी

दूसरी पारी में मुंबई की ओर से तनुश कोटियन ने खतरनाक गेंदबाजी की उन्होंने 39 ओवर में 95 रन देकर 4 विकेट चटकाये तुषार देशपांडे ने शॉर्ट गेंद पर दुबे को आउट किया दुबे ने 128 गेंद में पांच चौकों और दो छक्कों की सहायता से 65 रन बनाये देशपांडे ने ही आदित्य सरवटे को भी पवेलियन भेजा कोटियान ने यश ठाकुर (छह) के रूप में चौथा विकट लिया वहीं अपने कैरियर का अंतिम मैच खेल रहे धवल कुलकर्णी ने उमेश यादव का विकेट लेकर विदर्भ की पारी का पटाक्षेप किया

Related Articles

Back to top button