MS Dhoni ने अपने बेहतरीन क्रिकेट करियर के दौरान पूरी संसार के क्रिकेट फैंस का किया खूब मनोरंजन

MS Dhoni ने अपने बेहतरीन क्रिकेट करियर के दौरान पूरी संसार के क्रिकेट फैंस का किया खूब मनोरंजन

MS Dhoni 7 जुलाई 2020 को 39 वर्ष के हो गए व उनके जन्मदिन के मौके पर सबने उन्हें उनकी शानदार उपलब्धि के लिए याद किया. धौनी ने अपने बेहतरीन क्रिकेट करियर के दौरान पूरी संसार के क्रिकेट फैंस का खूब मनोरंजन किया व उनकी जर्नी बेहद शानदार रही. 

सुरेश रैना को भारतीय क्रिकेट टीम से धौनी के सबसे करीबी सहयोगियों में से एक माना जाता है. उन्होंने हाल ही में धौनी का एक पुराना किस्सा शेयर किया जब उन्होंने वेस्टइंडीज के पेसर टीनो बेस्ट के लाइन व लेंथ को बेकार करने के लिए एक चाल चली थी.

रैना ने जतीन सप्रू से बात करते हुए बताया कि किस तरह से धौनी ने टीनो के विरूद्ध अपरंपरागत शॉट खेलते हुए किस तरह से उनकी खतरनाक गेंदबाजी का सामना किया व उनके आक्रमण को ध्वस्त कर दिया था. रैना ने बताया कि धौनी भाई ने टोनी की एक गेंद पर पैडल स्वीप लगाया. इसके बाद मैंने बोला कि धौनी भाई 150 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से गेंद डाल रहा है. इस पर माही ने बोला कि उसको चिढ़ा रहा हूं मैं अभी, ये मुझे व देगा मारने के लिए. इसके बाद टीनो की लाइन ही बेकार हो गई व उसने 4 ओवर में 40 रन दे दिए.

ये एक ही घटना नहीं है क्योंकि धौनी ने कई बार विरोधी खिलाड़ी के विरूद्ध माइंड गेम खेला व उनका ध्यान भटकाने में पास रहे. 2008 में सीबी सीरीज में ऑस्ट्रेलिया में धौनी ने उस समय की ऑस्ट्रेलिया की गेंदबाजी लाइन-अप को परेशान कर दिया था. वो मैच हिंदुस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में खेला गया था व कंगारू टीम के कैप्टन रिकी पोंटिंग थे.

इस मैच में इशांत शर्मा ने 38 रन पर चार विकेट लिए थे व हिंदुस्तान को जीत के लिए 160 रन बनाने थे. हिंदुस्तान का स्कोर 5 विकेट पर 102 रन हो गया था. इसके बाद हिंदुस्तान को जीत के लिए 129 गेंदों पर 58 रन बनाने थे. जब हिंदुस्तान को जीत के लिए 10 रन बनाने थे तब उन्होंने अनावश्यक रूप से अपने दस्ताने को बदलने का आह्वान किया. ये बहाना सिर्फ उन्होंने इसलिए किया था क्योंकि उन्हें भारतीय ड्रेसिंग रूप में ये संदेश भेजना था कि जीत मिलने के बाद कोई भी भारतीय खिलाड़ी सेलीब्रेशन में हद से आगे ना जाए.

यही नहीं उन्होंने नॉन- हड़ताल र एंडर पर बल्लेबाजी कर रहे रोहित शर्मा को भी समझाया कि वो जीत के बाद कंगारू टीम के खिलाड़ियों से हाथ मिलाने के दौरान कैजुअल ही रहें. धौनी ने ऐसा इसलिए किया था क्योंकि वो मेजबान टीम को ये संदेश देना चाहते थे कि मैन इन ब्लू के लिए ये जीत किसी भी तरह का आश्चर्य नहीं है. इस घटना का जिक्र हिंदुस्तान सुंदरन की किताब The Dhoni Touch में है.