कोरोना वायरस के दौरान प्रीमियर लीग फुटबॉल में बन सकता है लिवरपूल चैंपियन, जाने कैसे

कोरोना वायरस के दौरान प्रीमियर लीग फुटबॉल में बन सकता है लिवरपूल चैंपियन, जाने कैसे

कोरोना वायरस के कारण तीन महीने तक ठप्प रहने के बाद प्रीमियर लीग फुटबॉल की 17 जून को वापसी होना तय है, जिससे लिवरपूल के चैंपियन बनने का रास्ता साफ होगा व साथ ही यूरोपीय चैंपियनशिप में खेलने वाली टीमों का भी निर्धारण हो जाएगा.

 लिवरपूल का 30 साल में पहली बार चैंपियन बनना तय है, लेकिन जब खाली स्टेडियमों में मैच होंगे तो कई अन्य मसले भी सुलझ जाएंगे. इनमें दूसरी श्रेणी में जाने वाली टीमों व अगले वर्ष यूरोपीय चैंपियनशिप में स्थान बनाने वाली टीमों का निर्धारण भी शामिल है. 

मार्च में जब लीग निलंबित की गई थी तब लिवरपूल अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी मैनचेस्टर सिटी से 25 अंक आगे था व दो मैचों में जीत से वह 1990 के बाद पहली बार इंग्लिश प्रीमियर लीग का चैंपियन बन जाएगा. कोविड-19 के कारण लिवरपूल का इंतजार बढ़ा, लेकिन हर किसी को विश्वास है कि चैंपियन वही बनेगा. लिवरपूल की दो जीत से मैनचेस्टर सिटी के लिए उस तक पहुंचना कठिन हो जाएगा. लिवरपूल अपना पहला मैच जीतने व सिटी के हारने की स्थिति में भी चैंपियन बन जाएगा.     

यही नहीं, जर्गेन क्लॉप की लिवरपूल की टीम सिटी के दो रिकॉर्ड भी तोड़ सकती है. वह अगर अब संभावित 27 अंकों में से 19 अंक हासिल कर लेती है तो वह मैनचेस्टर सिटी के 2017-18 के 100 अंकों के रिकॉर्ड को तोड़ देगी. यही नहीं वह सिटी के उसी सत्र में 19 अंकों से जीत दर्ज करने के रिकॉर्ड को भी ध्वस्त कर सकती है.

लिवरपूल के कैप्टन जोर्डन हेंडरसन ने पिछले वर्ष खचाखच भरे स्टेडियम में चैंपियन्स लीग की ट्रॉफी उठाई थी, लेकिन इस वर्ष वह अलग तरह के अनुभव के लिए तैयार हैं. उन्होंने बीबीसी से कहा, ''निश्चित तौर पर एक अलग तरह का अनुभव होगा, क्योंकि अगर आप प्रशंसकों की अनुपस्थिति में ट्रॉफी उठाते हो तो बहुत ज्यादा अजीब लगेगा.''

जहां तक चैंपियंस लीग में स्थान बनाने की बात है तो लिवरपूल में इसमें अपना जगह सुनिश्चित कर चुका है. उसके बाद मैनचेस्टर सिटी, लीसेस्टर व चेल्सी अगले तीन स्थानों पर है. लेकिन सिटी यूरोप के क्लबों की शीर्ष प्रतियोगिता में अगले दो सत्र तक भाग नहीं ले सकता, क्योंकि उस पर वित्तीय फेयरप्ले उल्लंघन के लिए प्रतिबंध लगा है. सिटी ने अपील कर रखी है व अगर निर्णय उसके पक्ष में जाता है तो वह इसमें भाग लेने का हकदार बन जाएगा. 

अगर वर्तमान निर्णय बरकरार रखा जाता है तो जो भी टीम पांचवें जगह पर रहेगी वह अगले वर्ष चैंपियंस लीग में स्थान बनाएगी. अभी मैनचेस्टर यूनाईटेड पांचवें जगह पर है लेकिन वॉल्व्स व शैफील्ड यूनाईटेड उससे केवल दो अंक पीछे हैं. आठवें व नौवें जगह पर काबिज टॉटेनहैम व आर्सनल के पास भी पांचवें जगह पर पहुंचने का मौका रहेगा.