हिंदुस्तान सरकार ने 59 चीनीं एप पर लगाया प्रतिबंध, जाने आईपीएल का बदला टाइटल स्पॉन्सर

 हिंदुस्तान सरकार ने 59 चीनीं एप पर लगाया प्रतिबंध, जाने आईपीएल का बदला टाइटल स्पॉन्सर

 आईपीएल 2020 को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) पूरी तैयारियों में लगा हुआ है। इस दौरान बीसीसीआई ने आईपीएल (IPL) सीजन 13 के टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर चीनी मोबाइल कंपनी वीवो से किनारा कर लिया है।

 दरअसल हाल ही में हिंदुस्तान व चाइना टकराव को लेकर हिंदुस्तान सरकार ने 59 चीनीं एप पर प्रतिबंध लगा दिया था। ऐसे आईपीएल को कई वर्षों से वीवो स्पॉन्सर करता आ रहा है व एक चीनी कंपनी भारतीय क्रिकेट की सबसे बड़ी लीग को स्पॉन्सर करे ये फैंस को गवारा नहीं था।  

दर्शकों ने इस विषय का विरोध किया व आखिर में बीसीसीआई को फैंस की बात माननी पड़ी। बुधवार को हुई बीसीसीआई बोर्ड की मीटिंग में वीवो को आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर से हटा दिया। ऐसे में एक बड़ा सवाल निकल के आता है कि आखिरकार अब आईपीएल 2020 को कौन सी कंपनी स्पॉन्सर करेगी। हालांकि इस रेस में कई कंपनिया अपनी-अपनी दावेदारियां पेश करने में लगी हुई हैं।

गौरतलब है कि जैसे ही बीसीसीआई ने वीवो को बतौर आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर से हटाने की आधिकारिक पुष्टि की, उसके बाद ही कई कंपनियां व खुद बीसीसीआई नया टाइटल स्पॉन्सर तलाशने में जुट गई है। हालांकि खबरों के मानों तो वीवो के टाइटल स्पॉन्सर से हटाए जाने के बाद बीसीसीआई को बड़ी रकम का नुकसान उठाना पड़ सकता है लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने अपनी कमर कस ली है व विकल्प के तौर अन्य टाइटल स्पॉन्सर कंपनियों से 180 करोड़ तक के समझौते पर रजामंदी देने का मन भी बना लिया है। हालांकि यह भी बोला जा रहा है कि अगले वर्ष वीवो बतौर IPL टाइटल स्पॉन्सर वापसी कर सकती है।

वहीं सूत्रों की मानें तो आईपीएल के नए टाइटल स्पॉन्सर की लिस्ट बहुत ज्यादा लंबी है, जिसमें टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सर कंपनी बायजूज (BYJU'S), माय सर्कल 11 (MYCIRCLE11), एमेजॉन (AMAZON), ड्रीम इलेवन (DREAM11) व अनएकेडमी (UNACADEMY) शामिल हैं। हालांकि आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर की रेस में बायजूज व ड्रीम इलेवन को सबसे आगे माना जा रहा है, क्योंकि यह दोनों कंपनी पहले से बीसीसीआई के साथ जुड़ी हुई हैं। एक ओर बायजूज ने टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सरशिप के तौर पर बोर्ड को 1079 करोड़ रूपए की भारी रकम अदा की थी। तो वहीं दूसरी ओर ड्रीम इलेवन भारतीय प्रीमयर लीग (आईपीएल) का दूसरा आधिकारिक पार्टनर है जो हर सीजन 40 करोड़ की रकम अदा कर बीसीसीआई से करार करता है।