हरभजन सिंह ने बताया कि वो क्यों रिकी पोंटिंग पर रहते थे हावी और लेते थे उनका विकेट

हरभजन सिंह ने बताया कि वो क्यों रिकी पोंटिंग पर रहते थे हावी और लेते थे उनका विकेट

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग का हाथ स्पिनर के खिलाफ थोड़ा तंग था और इस बात का मनोवैज्ञानिक लाभ उठाकर टीम इंडिया के सीनियर स्पिरन हरभजन सिंह ने 2001 में खेले गए टेस्ट सीरीज में उन्हें जल्दी आउट करने में सफलता हासिल की थी। भारत के लिए 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट ले चुके हरभजन सिंह ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज पोंटिंग को टेस्ट क्रिकेट में दस बार आउट कर चुके हैं। 2001 में घरेलू टेस्ट सीरीज के दौरान भज्जी ने उन्हें 5 बार आउट किया था। 

हरभजन सिंह रिकी पोंटिंग का एक बल्लेबाज के तौर पर ही नहीं बल्कि एक कोच और गाइड के तौर पर भी काफी सम्मान करते हैं। ये दोनों खिलाड़ी आइपीएल में मुंबई के लिए खेलते हुए ड्रेसिंग रूम भी शेयर कर चुके हैं। भज्जी ने कहा कि इसमें कई शक नहीं है कि वो दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक थे जिनके साथ मैं खेला हूं। उन्हें एक ग्रेट बल्लेबाज के तौर पर याद किया जाएगा। एक वक्त ऐसा था जब मैं अपने करियर में पीक पर था और मुझे लगता था कि मैं उनकी बराबरी पर हूं और ऐसा मुझे तब लगने लगा जब मैंने उन्हें एक-दो बार आउट किया। भज्जी ने कहा कि तेज गेंदबाज के खिलाफ बेहतरीन बल्लेबाजी करने वाले पोंटिंग में मुझे कुछ तकनीकी खामी नजर आई थी। मैं देख सकता था कि, जब वो डिफेंस के लिए आगे आते हैं तो वो गेंद की तरफ लपकते हैं और शॉफ्ट हैंड से नहीं खेलते हैं। मुझे लगा कि अपने डिफेंस में वो हार्ड हैंड के साथ आगे आते हैं। 

हरभजन सिंह ने कहा कि गेंद जो उछलती है या उठती है वो उनके बल्ले के टॉप को हिट करेगी और इसकी वजह से मुझे उन्हें बैट-पैट या फिर शॉर्ट लेग व बैकवर्ड शॉर्ट-लेग में कैच करवाने का मौका मिलता था। यही नहीं एक बार मैंने महसूस किया कि वो सच में गेंद को डिफेंड करने में सहज नहीं थे और मैं उनकी इसी कमजोरी पर खेल सकता था। उन्होंने कहा कि, एक कंप्लीट और प्रोपर बैट्समैन बनने के लिए सॉलिड डिफेंस की जरूरत होती है। भज्जी ने रिकी को कई बार अलग-अलग तरीकों से आउट किया था। 

हरभजन सिंह ने पोंटिंग को नजदीकी फील्डर्स के हाथों आउट करवाने के अलावा LBW और स्लिप में भी कैच आउट करवाया। पोंटिंग हरभजन सिंह के खिलाफ टेस्ट में सिर्फ 200 से कुछ ही ज्यादा रन ही बना सके। उन्होंने कहा कि, आपके पास हर तरह से शॉट हो सकते हैं, लेकिन अगर आपका डिफेंस सॉलिड है तभी आप एक परिपक्व बल्लेबाज बन पाते हैं। जब वो तेज गेंदबाजों को खेलते थे तब ऐसा कभी नहीं लगता था कि वो कड़े हाथों से खेल रहे हैं, लेकिन जब आप स्पिनर को खेलते हैं तो आपको सॉफ्ट हैंड से खेलना होता है। मैंने 2001 टेस्ट सीरीज के दौरान उन्हें चार-पांच (पांच बार) आउट किया। 

भज्जी ने कहा कि इसके बाद मैं जब भी उनके खिलाफ खेलता था तो वो माइंड गेम होता था। जब आप किसी गेंदबाज की गेंद पर काफी बार आउट हो चुके हैं तो वो बातें आपके दिमाग में होती हैं। वहीं मुझे ऐसा लगता था कि कंडीशन जो भी हो, सरफेस चाहे कैसा भी हो मैं उन्हें आउट कर सकता हूं और ये काम करता था। हालांकि उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि पोंटिंग एक महान बल्लेबाज थे। 


कोहली के लिए खास दिन, तोड़ सकते हैं सचिन का ये बड़ा रिकाॅर्ड

कोहली के लिए खास दिन, तोड़ सकते हैं सचिन का ये बड़ा रिकाॅर्ड

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने  कई रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज हैं। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में 22 हजार रन पूरा करके उन्होंने विश्व रिकॉर्ड स्थापित कर लिया है। अब तीसरे वनडे में विराट कोहली के सामने भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर से वनडे के सबसे बड़े रिकॉर्ड पर ध्यान रहेगा।

सचिन के  रिकॉर्ड को अपने नाम
मात्र 23 रन बनाते ही विराट कोहली सचिन के इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर सकेंगे। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज टीम इंडिया ने गंवा दी है। तीसरे और आखिरी मुकाबले में बुधवार को विराट ब्रिगेड अपनी प्रतिष्ठा बचाने उतरेगी। भारतीय टीम को क्रमश: 66 और 51 रनों से हार का सामना करना पड़ा है।

सबसे तेज 12 हजार वनडे रन
ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ बुधवार को 23 रन बना लेते हैं तो वह तेंदुलकर की तुलना में 58 मैच पहले इस उपलब्धि को हासिल कर लेंगे। फिलहाल तेंदुलकर सबसे तेज 12 हजार वनडे रन पूरे करने वाले बल्‍लेबाज हैं। इस लिस्ट में तेंदुलकर के बाद रिकी पोटिंग हैं, जिन्‍होंने 323 मैचों की 314 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की. कुमार संगकारा ने 359 मैचों की 336 पारियों में, सनथ जयसूर्या ने 390 मैचों की 379 पारियों में और महेला जयवर्धने ने 426 मैचों की 399 पारियों में यह कमाल किया है।

वनडे करियर में 49 शतक
विराट कोहली के नाम सबसे तेज 8000, 9000, 10000 और 11000 रन बनाने का रिकॉर्ड पहले से ही है। विराट कोहली ने अब तक 250 वनडे मैचों की 241 पारियों में 59.29 के एवरेज से 11977 रन बनाए हैं। उन्होंने 43 शतक और 59 अर्धशतक जमाए हैं। सर्वाधिक शतक की बात करें, तो सिर्फ सचिन तेंदुलकर उनसे आगे हैं, जिन्होंने अपने वनडे करियर में 49 शतक लगाए थे।

32 साल के विराट सबसे कम पारियों (242) में यह उपलब्धि हासिल करने वाले बल्लेबाज बन जाएंगे। वह मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ देंगे, जिन्हें अपने 12000 रन पूरे करने के लिए 300 पारियां लगी थीं। विराट कोहली के नाम सबसे तेज 8000, 9000, 10000 और 11000 रन बनाने का रिकॉर्ड पहले से ही है।


इस एक्ट्रेस की डान्स फिल्म साइन करने की उम्मीद, शेयर की फोटोज       कैटरीना 'शहनाज' ने लेटेस्ट फोटोशूट में लगाया हुस्न का तड़का, दीवाने हुए फैंस       ये अभिनेत्री ने समद्र किनारे दिखाया बोल्डनेस का जलवा, देखें तस्वीरें       बॉलीवुड एक्ट्रेस ने मनाया 45वां र्थडे, शेयर की ग्लैमरस तस्वीरें       OMG! जसलीन मथारू ने बोल्ड तस्वीरों में दिखाया हुस्न का जलवा, फैंस की थमी सांसे       भोजपुरी अभिनेत्री स्मृति सिन्हा ने करवाया बोल्ड फोटोशूट, शेयर की फोटोज       OMG! इस एक्ट्रेस की बेटी ने करवाया बोल्ड फोटोशूट       आद‍ित्य और श्वेता सात जन्मों के बंधन में बंधे, शादी की तस्वीरें हुई वायरल       सनी देओल कोरोना संक्रमित, 1 महीने से मनाली में काट रहे थे मौज       सोनाक्षी सिन्हा इस वाईट ड्रेस में गिरा रही हैं कहर       ताज होटल के बाहर नजर आए रणवीर, शूटिंग के लिए अलीबाग निकलीं ये एक्ट्रेस       OMG! इस देश में बेटी करती हैं अपने पिता से शादी, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान       मोनालिसा का ये बोल्ड अवतार सोशल मीडिया हुआ वायरल       रकुलप्रीत सिंह की नई तस्वीरों में दिखा बोल्ड अवतार, लोगों की थमी सांसें       रितेश देशमुख की पत्नी जेनेलिया की लेटेस्ट फोटो इंस्टा पर हुई वायरल       घर में तिजोरी रखने के खास नियम, इस दिशा में नहीं खुलना चाहिए दरवाजा       अगर आपके घर को लग गयी है किसी की बुरी नजर...तो अपनाएं ये कुछ टोटका       रोमांस के मामले में सबसे आगे होती ऐसी लड़कियां       आपके लव अफेयर के सारे राज खोल देती हैं आपकी हस्तरेखाएँ       इस कोने में लगाएं अपनी अपनी तस्वीर, पति-पत्नी के बीच बढ़ता है प्यार