Cristiano Ronaldo ने Press Conference में Coke की बोतल से किया किनारा, बोले...

Cristiano Ronaldo ने Press Conference में Coke की बोतल से किया किनारा, बोले...

पुर्तगाल (Portugal) टीम के कैप्टन और युवेंटस फुटबॉल क्लब (Juventus FC) के स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) अपनी फिटनेस को लेकर बहुत ज्यादा सजग हैं यही वजह है कि वो ऐसी किसी भी खाने पीने के सामान को देखना तक नहीं चाहते जो उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है

क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) एक दिन में करीब 6 बार साफ और पौष्टिक भोजन करना पसंद करते हैं ऐसे में उनके लिए चीनी युक्त खाने की कोई स्थान नयी है इसका सबूत उन्होंने यूरो 2020 के मैच से पहले हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिया जब वो मीडिया के प्रश्नों के उत्तर देने पहुंच तो माइक के पास रखे 2 कोक के बोतल को किनारे कर दिया कैमरे के सामने उन्होंने पानी के बोतल को उठाकर फैंस से कहा- 'पानी पियो '

बताते चलें कि क्रिस्टियानो रोनाल्डो (Cristiano Ronaldo) की ही कप्तानी में पुर्तगाल (Portugal) फुटबॉल टीम ने मेजबान फ्रांस (France) को हराकर वर्ष 2016 का यूरो कप (Euro 2016) जीता था इस बार रोनाल्डो के पास खिताब को बरकार रखने की चुनौती हौगी यूरो 2020 (Euro 2020) में मौजूदा चैंपियन की पहली टक्कर हंगरी (Hungary) से होगी


पहली पारी में इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय तेज गेंदबाज क्यों रहे इतने सफल

पहली पारी में इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय तेज गेंदबाज क्यों रहे इतने सफल

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में भारतीय तेज गेंदबाजों ने मेजबान टीम के बल्लेबाजों को टिकने का मौका नहीं दिया और पूरी टीम 183 रन के स्कोर पर आउट हो गई। पहली पारी में जसप्रीत बुमराह ने सबसे ज्यादा चार विकेट लिए थे तो वहीं मो. शमी को तीन सफलता मिली थी। शार्दुल ठाकुर को दो तो वहीं मो. सिराज ने पहली पारी में एक विकेट लिए थे। पहली पारी में भारतीय गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी के बाद शमी ने बताया कि, किस तरह से उन्होंने इंग्लिश बल्लेबाजों को बैकफुट पर ला दिया। उन्होंने कहा कि, उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि, वो कहां पर खेल रहे हैं। वो किसी भी तरह की कंडीशन में बस अपने खेल पर विश्वास करते हैं। 

मो. शमी ने कहा कि, टेस्ट मैच धैर्य का खेल है। भूल जाओ कि पहले क्या हुआ है, हमें मौजूदा स्थिति के बारे में सोचना होता है, हमें अधिक दिमाग नहीं लगाना होता।'  शमी ने कहा, 'मेरे नजरिए से टेस्ट मैचों में सामान्य सी बात है, आप जितना अधिक अपने बेसिक्स पर ध्यान दोगे उतना अधिक आपके सफल होने की संभावना होगी। अगर आप जरूरत से ज्यादा सोचोगे तो आप रन लुटाओगे और गैरजरूरी दबाव बनेगा।' हमने यही किया और इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में सफल रहे। 


उन्होंने आगे कहा कि, मुझे नहीं पता कि मैं इंग्लैंड में विकेट क्यों हासिल नहीं कर पाता (हंसते हुए)। लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या कहीं और खेल रहा हूं, मैं अपने कौशल पर भरोसा करता हूं।' उन्होंने कहा, 'यहां तक कि जब मैं नेट्स पर गेंदबाजी कर रहा था तब भी हालात को परखने की कोशिश कर रहा था और इसी के हिसाब से प्लान बनाया। इसके बाद मैच में इसे लागू करने की कोशिश की।' यहां पर हमारा प्लान काम कर गया और हमें सफलता मिली।