इतने खिलाड़ी हुए टॉप्स में शामिल

इतने खिलाड़ी हुए टॉप्स में शामिल

देश के शीर्ष गोल्फर अनिर्बान लाहिड़ी, अदिति अशोक और दीक्षा डागर, ओलंपियन घुड़सवार फवाद मिर्जा और अल्पाइन स्कीयर मोहम्मद आरिफ खान उन 10 एथलीटों में शामिल हैं जिन्हें हाल में खेल मंत्रालय की लक्ष्य ओलंपिक पोडियम योजना (टॉप्स) में शामिल किया जा चुका है। लाहिड़ी, अदिति, दीक्षा, मिर्जा और खान को कोर ग्रुप में शामिल कर लिया गया है, जबकि गोल्फर शुभंकर शर्मा, त्वेसा मलिक और जुडोका यश घंगास, उन्नति शर्मा और लिंथोई चनंबम को ‘डेवलपमेंट ग्रुप’ (विकास समूह) में रखा जाने वाला है।

भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के मुताबिक नए खिलाड़ियों के जुड़ने के उपरांत टॉप्स में कुल तादाद 301 हो चुका है। जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग के रहने वाले खान आने वाले माह बीजिंग में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई करने वाले देश के प्रथम अल्पाइन स्कीयर हैं। घुड़सवार मिर्जा ने जकार्ता एशियाई खेलों 2018 में रजत पदक जीता था और बीते वर्ष टोक्यो ओलंपिक में वह 23वें स्थान पर रहे। बेंगलुरु की 23 साल की अदिति ने टोक्यो ओलंपिक खेलों में अपने प्रदर्शन से देशवासियों का ध्यान अपनी तरफ खींच लिया है। वह चौथे स्थान पर रही थी। 

हरियाणा के झज्जर की रहने वाली 21 साल की दीक्षा पिछले साल ओलंपिक खेलों में 50वें स्थान पर रही थी। जुडोका घंगास (100 किग्रा वर्ग से अधिक), चनंबम (57 किग्रा) और उन्नति (63 किग्रा) ने पिछले महीने लेबनान में एशिया-ओसेनिया जूनियर चैंपियनशिप में रजत पदक भी जीत लिए है।


कौन हैं शंकरनारायण मेनन चुंडायिल? जानिए

कौन हैं शंकरनारायण मेनन चुंडायिल? जानिए

सेंट्रल गवर्नमेंट की तरफ से 73वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कार विजेताओं के नामों का एलान भी हो चुका है। विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट और महत्वपूर्ण योगदान देने वाले सम्मानीय लोगों को इन पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। खेल के क्षेत्र से भी कई खिलाड़ियों को इससे सम्मानित किया जाने वाला है। इनमें एक नाम ऐसा है जो अपने आप में एक संस्थान हैं और देश के सबसे पुराने मार्शल आर्ट फॉर्म 'कलारीपयट्टू' के मौजूदा दौर के दिग्गज प्रशिक्षक हैं। हम बात कर रहे हैं 93 साल के शंकरनारायण मेनन चुंडायिल (उन्नी गुरुक्कल) की जिन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है। 

कौन हैं शंकरनारायण मेनन चुंडायिल?: शंकरनारायण मेनन इस समय केरल में वल्लभट्ट कलारी के मुख्य प्रशिक्षक और वर्तमान गुरुक्कल हैं, जिनके नेतृत्वमें तकरीबन 100 युवा प्रशिक्षु प्रशिक्षण भी ले चुके है। शंकरनारायण कलारी को सीखाने वाले मुदावंगटिल परिवार के सबसे वरिष्ठ व्यक्ति हैं। परिवार के पास मालाबार में वेट्टथु नाडु के राजा की सेना का नेतृत्व करने की विरासत में है।

मेनन की आयु आज 93 वर्ष हो  चुकी है लेकिन वह आज भी तय दिनचर्या और अनुशासन के साथ अपना जीवन जी रहे हैं। वह रोजाना सुबह साढ़े 5 बजे उठते हैं और 6 बजे ट्रेनिंग सेंटर पहुंचकर दो घंटे की ट्रेनिंग दे रहे है। वह  वक़्त से उठने और समय से सोने की नीति का पूरी तरह से पालन भी किया करते है। उन्नी गुरुक्कल और उनके बच्चों ने कलारीपयट्टू को बढ़ावा देने के लिए बड़े पैमाने पर विदेशों की यात्रा की है, ब्रिटेन, यूएस, फ्रांस, बेल्जियम और श्रीलंका जैसे देशों में नए वल्लभट्ट केंद्र शुरू कर दिया है। अब तक, वल्लभट्ट कलारी दुनिया भर में 17 शाखाओं में 5,000 से अधिक लोगों को प्रशिक्षित करता है।