रोहित ने सलामी बल्लेबाज के रूप में तीनों प्रारूप में खुद को किया साबित

रोहित ने सलामी बल्लेबाज के रूप में तीनों प्रारूप में खुद को किया साबित

पिछले कुछ सालों से खेल के तीनों प्रारूपों में समान रूप से दबदबा बनाये रखने वाले भारतीय कैप्टन विराट कोहली को प्रसिद्ध पत्रिका ‘द क्रिकेटर' ने पिछले एक दशक का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर चुना है। पत्रिका ने पिछले दस सालों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले 50 क्रिकेटरों की सूची तैयार की है जिसमें पुरुष व महिला दोनों क्रिकेटर शामिल हैं।

भारत से कोहली के अतिरिक्त इस सूची में आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (14वें), वनडे में तीन दोहरे शतक जड़ने वाले रोहित शर्मा (15वें), दुनिया कप विजेता कैप्टन महेंद्र सिंह धोनी (35वें), आलराउंडर रविंद्र जडेजा (36वें) व महिला टीम की महान बल्लेबाज मिताली राज (40) शामिल हैं।

पत्रिका ने कोहली के बारे में लिखा है कि दशक के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के लिये भारतीय कैप्टन सर्वसम्मत चयन था। विराट कोहली ने इस दशक में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किसी भी अन्य खिलाड़ी की तुलना में सर्वाधिक 20,960 रन बनाये। सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दक्षिण अफ्रीका के हाशिम अमला दूसरे जगह पर हैं लेकिन उन्होंने कोहली से लगभग 5000 रन कम बनाये हैं।

सचिन तेंदुलकर ने इसी दशक में 100 शतकों का इतिहास रचा व फिर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। इसमें लिखा गया है कि तेंदुलकर ने 2013 में जब 100 शतकों के रिकार्ड के साथ संन्यास लिया तो बोला जाने लगा कि कोई उनकी बराबरी नहीं कर पाएगा लेकिन अब कोहली 70 शतकों के साथ दूसरे नंबर पर काबिज रिकी पोंटिंग से केवल एक शतक पीछे है। कोहली ने अपने 70 शतकों में से 69 शतक 2010 से 2019 के बीच लगाये। उन्होंने अब तक कैप्टन के रूप में कुल 166 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं लेकिन जिम्मेदारी के साथ उनकी बल्लेबाजी में अधिक निखार आया क्योंकि इन मैचों में उनका औसत 66.88 है।

दशक के चोटी के क्रिकेटरों की सूची में शीर्ष दस में कोहली के बाद जेम्स एंडरसन, आस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेटर एलिस पैरी, स्टीव स्मिथ, हाशिम अमला, केन विलियमसन, एबी डिविलयर्स, कुमार संगकारा, डेविड वार्नर व डेल स्टेन को रखा गया है। अश्विन हिंदुस्तानियों में दूसरे जगह पर हैं। वह 2010 से लेकर 2019 तक सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। उन्होंने टेस्ट मैचों में 362 व सीमित ओवरों के मैचों में 202 विकेट लिये हैं।

रोहित ने सलामी बल्लेबाज के रूप में तीनों प्रारूप में खुद को साबित किया है।