शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए करे ये उपाय

शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए करे ये उपाय

शुगर लेवल को लेकर मरीजों में अक्सर असमंजस की स्थिति रहती है. अमरीकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस की तरफ से डायबिटीज लेवल का मानक घटाने की रिपोर्ट से भी मरीजों में भ्रम बढ़ गया. वे डॉक्टरों से ठीक लेवल और उपचार को लेकर पूछने लगे कि हमें क्या परिवर्तन करने हैं. जानते हैं इससे जुड़ी बातें.

Image result for शुगर लेवल को कंट्रोल

इस कारण है भ्रम -
अमरीकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियंस की ओर से जारी बताई जा रही इस दिशा निर्देश के मुताबिक अगर शुगर लेवल 250 एमजी/डीएल तक है तो मरीज डायबिटिक नहीं है जबकि अभी तक 200 एमजी/डीएल से अधिक शुगर लेवल पर डायबिटीज माना जाता है. लेकिन बाद में इसी एसोसिएशन ने खंडन करते हुए बोला कि हमने ऐसी कोई दिशा निर्देश जारी नहीं की है.

कौन कराए एचबीए1सी -
केवल डायबिटीज रोगियों को यह टैस्ट तीन महीने में एक बार करवाते रहना चाहिए. इससे डायबिटीज की 3 महीने की हिस्ट्री का पता चलता है. वहीं सामान्य शुगर टैस्ट से सिर्फ उसी क्षण का शुगर लेवल पता चलता है जबकि शुगर लेवल बीच-बीच में घटता-बढ़ता रहता है जो अधिक खतरनाक होता है. यह टैस्ट किसी भी समय करा सकते हैं.

शुगर लेवल कितना सही-
शुगर की जाँच दो बार होती है इसमें आईएफजी (खाली पेट) व आईजीटी (खाने के दो घंटे बाद) है. आईएफजी में शुगर लेवल 100 से कम है तो सामान्य व 101 से 125 है तो प्री डायबिटीक व 126 एमजी/डीएल से ऊपर है तो डायबिटीक हैं. इसी तरह आईजीटी 140 से कम है तो सामान्य, 140-200 है तो प्री डायबिटीक व 200 एमजी/डीएल से ऊपर है तो डायबिटीक हैं. खाने की बाद की जाँच हैवी ब्रेकफास्ट लेने या ग्लूकोज देकर भी करते हैं. इसमें मरीज को 75 ग्राम ग्लूकोज 300 मिली। पानी में घोलकर 10 मिनट में पिलाकर टैस्ट करते हैं.