शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी को बताया 'रणछोड़ दास गांधी

शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी को बताया 'रणछोड़ दास गांधी

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को रायपुर में बीजेपी के सदस्यता अभियान की समीक्षा की। यहां उन्होंने कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में सदस्यता अभियान प्रभारियों के साथ बैठक की। इसके बाद सिंधि समाज के धार्मिक स्थल शदाणी दरबार में वृक्षारोपण के साथ समाज के लोगों से मुलाकात की। यहां चौहान ने विपक्ष पर जमकर निशाना भी साधा। इस दौरान उन्होंने लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के इस्तीफा दिए जाने पर तंज भी किया।

Image result for शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी को बताया 'रणछोड़ दास गांधी

राहुल गांधी को बताया 'रणछोड़ दास गांधी'

यहां शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को 'रणछोड़ दास गांधी' की संज्ञा दे डाली। उन्होंने राहुल गांधी के इस्तीफे को लेकर कहा कि राहुल गांधी अब 'रणछोड़ दास गांधी' बन गए हैं और इन्हीं के कारण कांग्रेस संकट में है। पार्टी छोड़कर जाने से अराजकता की स्थिति निर्मित हो गई है। इसका परिणाम कर्नाटक में देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सभी लोग एक तरफ मैदान छोड़कर भाग रहे हैं जबकि बीजेपी जीत के बाद भी काम काज में जुटी हुई है। चौहान ने संतोष जताया कि सदस्यता अभियान का काम यहां बेहतर चल रहा है। उन्होंने जानकारी दी कि आने वाले 10 अगस्त को 4 हजार से अधिक सदस्यता वितरक छत्तीसगढ़ के लिए निकलेंगे।

'मोदी जी के नेतृत्व में नए भारत का उदय'

कुलभूषण जाधव के मामले का जिक्र करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट मे कुलभूषण जाधव की फांसी पर लगी रोक लगी। मोदी जी के नेतृत्व में एक नए भारत का उदय हुआ हुआ है। इसको लेकर पाकिस्तान अलग थलग पड़ गया है। हम अंतर्राष्ट्रीय अदालत में जीत गए हैं। इस मामले में चीन भी हमारे साथ खड़ा है। ये मानवाधिकारों की जीत है, ये नए भारत की जीत है।

'खुलने लगी है कांग्रेस सरकार की पोल'

इसके अलावा छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार पर हमला करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि केवल 6 महीने में ही छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस की पोल खुलने लगी है। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने शराबबंदी, कर्जमाफी और बेरोजगारी भत्ता जैसे वादे किए थे। लेकिन किसी वादे पर अमल नहीं किया गया। इससे कांग्रेस की नीयत पूरी तरह से साफ हो जाती है।