रानू मंडल ने किया ये बड़ा खुलासा, कहा टेप रिकॉर्डर से सीखा

रानू मंडल ने किया ये बड़ा खुलासा,  कहा टेप रिकॉर्डर से सीखा

पश्चिम बंगाल के एक रेलवे प्लेटफॉर्म से उठकर बॉलीवुड के गाना गाकर रातोंरात स्टार बनी रानू मंडल (Ranu Mandal) से ने वार्ता की है।

इसमें उन्होंने अपनी जिंदगी के बारे कुछ बेहद अहम बातें की। रानू बताया कि गाने से पहली बार उनका वास्ता महज छह-सात वर्ष में पड़ गया था।

रानू के अनुसार, 'मैं जब छह सात-साल की थी तभी से गाने सुनती आ रही हूं। तब दर्शकों के सामने गाने की हौसला नहीं होती थी। लेकिन मैं जमकर गाने सुनती थी। '

रानू ने आगे बताया, 'मैंने गाना टेप-रिकॉर्डर व रेडियो से सीखा है। मैं गायकों को रेडियो या टेप-रिकॉर्डर पर गाते हुए सुनते ही मेरा पूरा ध्यान उसी ओर चला जाता था। '

उल्लेखनीय है रानू मंडल पश्चिम बंगाल के रानाघाट रेलवे स्टेशन पर गाती थीं। वहीं से कुछ दूर वीराने में उनका घर है। न्यूज 18 की टीम रानू के घर पहु्ंची तो वहां उनके घर में सामान बिखरा पड़ा था, घर में काई लगी पड़ी थी।

रानू के घर की दीवारें गिर रही थीं व इस एक कमरे के घर में रानू अकेले ही जिंदगी गुजारने के लिए विवश थीं। न्यूज 18 की टीम को देखकर आसपास के कुछ व लोग वहां जमा हो गए। इसके बाद रानू ने अपनी वार्ता में अपनी कहानी बयान की।

जादुई आवाज वाली रानू मंडल पश्चिम बंगाल के रानाघाट की रहने वाली हैं। कई मीडिया रिपोर्ट्स तो यहां तक दावा कर रही हैं कि रानू का वास्तविक नाम रेनू रे (Renu Ray) है। असल में उनकी विवाह मंडल परिवार में हुई थी।

लेकिन अब उनके पति का निधन हो चुका है। कुछ रिपोर्ट्स का दावा है कि रानू मंडल (Ranu Mondal) पहले एक क्लब में गाना गाया करती थीं, तब उन्हें लोग रानू बॉबी के नाम से जानते थे। कुछ लोग ये भी बताते हैं कि रानू पहले स्टेज शो करती थीं। इसें उन्हें कई अवॉर्ड भी मिल चुके हैं।