जानिए, घड़ी को हमेशा उल्टे हाथ में बांधने का रहश्य

जानिए, घड़ी को हमेशा उल्टे हाथ में बांधने का रहश्य

घड़ी बांधते वक्त आपके मन में ये ख्याल जरूर आया होगा कि हमेशा बाएं हाथ की कलाई पर घड़ी को क्यों बांधा जाता है। पुराने जमाने में घड़ियां हाथों में नहीं जेब में हुआ करती थीं। आपने भी पुराने जमाने की चेन वाली घड़ियां देखी होंगी जिन्हें जेब में रखा जाता था। जेब से निकालकर समय देखा जाता था।माना जाता है कि कुछ लोग इस चेन वाली घड़ी को हाथ में पहनने लगे और हाथ में घड़ी बांधने का चलन शुरू हुआ। बाएं हाथ में घड़ी बांधने की मुख्य वजह अधिकतर लोगों का दाएं हाथ से अधिकतर काम करने वाला होना है।

जब आपका दायां हाथ काम में व्यस्त होता है तो बाएं हाथ में इसी दौरान समय देखना बेहद आसान होता है और काम भी दाएं हाथ से चलता रहता है। तभी तो आपने देखा होगा परीक्षा देते हुए छात्र दाएं हाथ से लिखते हैं और बाएं हाथ से बार-बार समय देखते रहते हैं।बाएं हाथ में घड़ी बांधना इतना कॉमन है कि घड़ियां भी इसी हिसाब से बनाई जाने लगीं। दाएं हाथ से अन्य काम करने के चलते आपकी घड़ी भी सुरक्षित रहती है। इसके गंदे होने, स्क्रैच लगने और काम की जगह जैसे टेबल पर टकराने की संभावना भी कम होती है।