कील-मुंहासों से यदि आप भी है परेशान तो ट्राय करे यह सरल टिप

कील-मुंहासों से यदि आप भी है परेशान तो ट्राय करे यह सरल टिप

यहां कुछ तरीका हम आपके लिए लेकर आए हैं, जिन्हें स्किन के अकोर्डिंग अपनाकर आप कील-मुंहासों से बहुत ज्यादा हद तक छुटकारा पा सकते हैं:

Image result for कील-मुंहासों

कील-मुंहासों को दूर भगाए एलोवीरा
एलोवीरा में एंटीबैक्टीरियल व एंटीइन्फ्लेमैटरी गुण होने से इसका प्रयोग कील-मुंहासों से होने वाली जलन तो अच्छा होती ही है, साथ ही इसके लगातार उपयोग से मुंहासों से बचा भी जा सकता है. इसके लिए इसकी पत्ती से निकलने वाले जैल को १५-२० मिनट चेहरे पर लगाकर सादे पानी से धो डालें.

शहद का चमत्कारिक उपयोग
शहद में भी एलोवीरा जैसे एंटीबैक्टीरियल गुण होता है, जो कि मुंहासों से होने वाली पीड़ा को दूर करके उन्हें अच्छा करने में भी मददगार साबित होता है. फेस पर १५-२० मिनट के लिए शहद लगाएं व फिर सादे पानी से धो लें. शहद चेहरे पर कांति भी लाती है.

अरण्डी का ऑयल लगाएं
मुंहासे पर एक दो मिनट अरण्डी के ऑयल की मालिश करें व फिर पानी में भीगी कॉटन से साफ कर दें. इससे पिंपल अच्छा हो जाएगा.

फिटकरी मुंहासों को दूर भगाए
पिंपल होने की आरंभ में ही उस पर एक-दो मिनट फिटकरी रगड़ें. बहुत जल्दी पिंपल गायब हो जाएगा.

पिंपल पर बर्फ रगड़ें
जैसे ही पिंपल होने का अहसास हो, उसी समय एक कपड़े में बर्फ का टुकड़ा डालकर उस पर एक-दो मिनट रगड़ें. इससे पिंपल बहुत जल्दी गायब हो जाएगा.

खीरा भी फायदेमंद
चेहरे पर खीरे का पेस्ट १०-१५ मिनट लगाकर रखें व फिर सादे पानी से धो लें. इससे मुंहासों में आराम के साथ ही चेहरे पर निखार भी आता है.

हल्दी का लेप भी लाभकारी
हल्दी में एंटीबैक्टीरियल गुण होता है, इसमें पानी मिलाकर लेप बनाएं व १० मिनट के लिए पिंपल पर लगाएं. व फिर सादे पानी से धो लें. इससे पिंपल्स से निजात मिलने के सारेचांसेज होते हैं.

ग्रीन टी का सेवन करने से बचें मुंहासों से
टीन एज में मुंहासों का कारण अक्सर हार्मोन चेंजेज भी होता है. इसके लिए ग्रीन टी का सेवन करें तो बहुत ज्यादा हद तक पिंपल्स से बचा जा सकता है, क्यूंकि ग्रीन टी में एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं, जो कि शरीर से टॉक्सिक को बाहर निकालने के साथ ही हार्मोन का संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं.

स्पर्श थैरेपी भी है लाभकारक
हाथ अच्छे से धोकर पिंपल पर अपनी तर्जनी अंगुली कुछ देर के लिए रखें. इससे वहां का ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा व पिंपल अच्छा होने लगेगा.