मध्य प्रदेश के भिंड के बजरिया इलाके में कब्ज़ा हटाते समय बुजुर्ग आदमी की  हो गई मृत्यु

मध्य प्रदेश के भिंड के बजरिया इलाके में कब्ज़ा हटाते समय  बुजुर्ग आदमी की  हो गई मृत्यु

मध्य प्रदेश के भिंड के बजरिया इलाके में कब्ज़ा हटाते समय महेश जैन नामक एक बुजुर्ग आदमी की मृत्यु हो गई। दरअसल, की तरफ से कब्ज़ा के विरूद्ध अभियान चलाया जा रहा है। लोगों को हिदायत दी गई है कि वह अपने कब्ज़ा को खुद ही हटा लें। लोगों के अंदर ये भी भय है कि अगर को तोड़ेगी तो उससे उनका ज्यादा नुकसान होने कि सम्भावना है। इसलिए लोग अपना कब्ज़ा खुद ही तोड़ रहे हैं।

Image result for मृत्यु

इसी कड़ी में महेश भी अपने रहे थे। तभी एक पत्थर महेश जैन के ऊपर आकर गिर गया, जिससे उनकी मृत्यु हो गई। इस मुद्दे पर पालिका अधिकारियों ने चुप्पी साध ली है, तो वहीं पूर्व विधायक नरेंद्र सिंह कुशवाह ने पालिका के अधिकारियों पर निशाना साधते हुए सरकार से पीड़ित परिवार को 50 लाख के मुआवजे की मांग की है। उधर महेश जैन की आकस्मिक मृत्यु से परिवार वाले सदमे में हैं।

घटना की जानकारी मिलते ही भी पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे व पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाया। इस दौरान पूर्व विधायक ने नगरपालिका सीएमओ को हादसे का जिम्मेदार ठहराते हुए बोला कि बजरिया में 400 से ज्यादा परिवार रहते हैं। हमने इतनी बार नोटिस आने के बाद भी बजरिया नहीं तोड़ी जाने दी, लेकिन जब एक बाबू को सीएमओ का प्रभार दे दिया जाए तो ऐसा ही होता है। क्योंकि उसे इतने बड़े पद का अनुभव नहीं होता है।

बता दें कि 16 सितंबर से भिंड के बजरिया इलाके में कब्ज़ा विरोधी मुहिम चलाई जा रही है, जिसके चलते लोगों को कठोर हिदायत दी गई थी कि वे अपना कब्ज़ा खुद हटा लें, नहीं तो नगर पालिका की ओर से कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में जिन लोगों ने चिन्हित कब्ज़ा नहीं तोड़ा नगर पालिका की ओर से कार्रवाई में उनका कब्ज़ा हटा दिया जाएगा। इसी भय से अपने परिवार के साथ मुंबई में रह रहे महेश जैन प्रारम्भ कर दिया व मकान तुड़ाई के दौरान पत्थर गिरने महेश इसकी चपेट में आ गए व उनकी मृत्यु हो गई।