गर्दन के दर्द को दूर करने के लिए करे चक्रासन

गर्दन के दर्द को दूर करने के लिए करे चक्रासन

चक्रासन का वीडियो शेयर किया. इस आसन को करते समय शरीर की स्थिति आधे चक्र जैसी हो जाती है, इसलिए इसके अर्ध चक्रासन कहते हैं.अर्धचक्रासन आपकी रीढ़ को लचीला बनाता है मेरुदंड तंत्रिकाओं को मजबूत बनाता है. साथ ही पीठ व गर्दन के दर्द को दूर करता है.

  1. मोदी ने ट्विटर पर वीडियो शेयर करते हुए लिखा, पीठ को मजबूत व ब्लड सर्कुलेशन बेहतर करता है अर्ध चक्रासन, इसके व भी फायदे हैं.अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर राष्ट्रीय कार्यक्रमों के लिए हिंदुस्तान सरकार ने दिल्ली, शिमला, मैसूर, अहमदाबाद व रांची को चुना है. इस मौके पर मोदी रांची मेंयोगासन करते नजर आएंगे. पिछले वर्ष वे देहरादून गए थे.

    • इस आसन को करते समय शरीर की स्थिति आधे चक्र जैसी हो जाती है, इसलिए इसके अर्ध चक्रासन कहते हैं.
    • सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं व अपने दोनों हाथों से कमर को सहारा दें.
    • ध्यान रखें की आपकी सभी अंगुलियां जुड़ी हुई हों ताकि ये कमर का सहारा दे सकें.
    • अब गहरी सांस लेते हुए सिर को पीछे की ओर झुकाएं. सिर को इतना झुकाएं ताकि आपको गर्दन की मांसपेशी पर खिंचाव महसूस हो.
    • सामान्य रूप से सांस लें व छोड़ें. इस स्थिति में 10-30 सेकंड से तक विश्राम करें.
    • अब धीरे-धीरे अपनी कमर को सहारा देते हुए रीढ़ की हड्डी को सीधा करें. अब सिर को सामान्य रूप से लाते हुए विश्राम करें.



    • पीठ का भाग होता मजबूत : अर्धचक्रासन आपकी रीढ़ को लचीला बनाता है मेरुदंड तंत्रिकाओं को मजबूत बनाता है.
    • दूर होता है गर्दन का दर्द : यह आसन सांस लेने की क्षमता को बेहतर बनाता है व गर्दन के दर्द (सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस) में आराम देता है.
    • मजबूत होती हैं मांसपेशियां : इसे नियमिततौर पर करने से हाथों एवं कंधों की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं.
    • ध्यान रखें : इसे करते समय हाई बीपी के रोगियों को सावधानी से झुकना चाहिए. अगर चक्कर आते हो इसे नहीं करना चाहिए.