कैप्टन विराट कोहली ने टीम इंडिया के इस खिलाडी को निकाला बाहर, जानिए ये है वजह

 कैप्टन विराट कोहली ने टीम इंडिया के इस खिलाडी को निकाला बाहर,  जानिए ये है वजह

वर्ल्ड कप 2019 से भारतीय टीम की विदाई के बाद नाराजगी व आलोचनाओं का दौरा जारी है। कोई कैप्टन विराट कोहली के फैसलों पर सवाल उठा रहा है तो कोई टीम मैनेजमेंट पर अपनी जिम्मेदारी अच्छा से नहीं निभाने का आरोप लगा रहा है।

Image result for  कैप्टन विराट कोहली

इन सबके बीच टीम इंडिया के एक अहम मेम्बर पर वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में पराजय की गाज गिर सकती है।

भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के विरूद्ध मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड स्टेडियम में खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में 18 रन से पराजय का सामना करना पड़ा था। ऐसे में भारतीय टीम वकोचिंग स्टाफ की बहुत ज्यादा आलोचना की जा रही थी। हालांकि मुख्य कोच रवि शास्‍त्री व कोचिंग स्टाफ का कार्यकाल वर्ल्ड कप के बाद 45 व दिन के लिए बढ़ा दिया गया है, लेकिन इन सभी में एक कोच के प्रदर्शन पर पैनी नजर रखी जा रही है।

दरअसल, टीम इंडिया के सहायक कोच संजय बांगड़ के बारे में भारतीय क्रिकेट बोर्ड के कुछ लोगों का मानना है कि उन्होंने अपनी जिम्मेदारी अच्छा तरह से नहीं निभाई है। वे इससे कहीं बेहतर कार्य कर सकते थे। आम धारण ये है कि भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण की अगुआई में गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया। वहीं फील्डिंग कोच आर। श्रीधर के होने का प्रभाव भी टीम की फील्डिंग पर देखने को मिला है जो पहले से बहुत ज्यादा सुधरी है। मगर यही बात बल्लेबाजी इकाई के बारे में नहीं कही जा सकती। खासकर इसे लेकर भी बहुत ज्यादा सवाल उठाए जा रहे हैं कि टीम के अंदर नंबर चार पर किसी एक बल्लेबाजी की किरदार तय ही नहीं हो सकी।

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ ऑफिसर ने फोन पर IANS को बताया कि मध्यक्रम में लगातार परिवर्तन के चलते टीम इंडिया को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा व ऐसा सिर्फ वर्ल्ड कप में ही नहीं हुआ बल्कि पिछले कुछ सीजन से यही स्थिति चली आ रही है व बांगड़ इसका कोई निवारण निकाल पाने में असफल साबित हुए हैं। यहां तक कि बांगड़ ने नंबर चार के लिए चुने गए विजय शंकर को बिल्कुल फिट बताया था वो भी तब जबकि उसके अगले ही दिन वह चोट के चलते वर्ल्ड कप से बाहर हो गए। बीसीसीआई को यह बात भी नागावार गुजरी है।

बीसीसीआई के ऑफिसर ने बताया कि ऐसे में जबकि हम खिलाड़ियों के साथ पूरी तरह खड़े हैं, जिन्होंने टूर्नामेंट में एक बेकार दिन को छाेड़कर अच्छा प्रदर्शन किया है, वहीं सपोर्ट स्टाफ के भविष्य पर निर्णय लेने से पहले उनके निर्णयों व रवैये की भी समीक्षा की जाएगी।