अमेरिका पतंजलि पर लगा सकती है करोड़ो का जुर्माना, जानिए ये है वजह

अमेरिका पतंजलि पर लगा सकती है करोड़ो का जुर्माना,  जानिए ये है वजह

पतंजलि के दो शर्बत उत्पादों पर अमेरिका में कारवाई हो सकती है. अमेरिका के स्वास्थ्य नियामक यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (यूएसएफडीए) ने अपनी रिपोर्ट में बोला है कि इन शर्बत उत्पादों पर लगे लेबल में अलावा औषधीय और आहार संबंधी दावे दोनों राष्ट्रों के लिए अलग हैं. नियामक ने पतंजलि के दो शर्बत उत्पादों पर लगे लेबल पर हिंदुस्तान व अमेरिका के लिए भिन्न-भिन्न दावे पाए हैं.

Image result for पतंजलि

यूएसएफडीए के जाँच ऑफिसर ने बोला कि पिछले वर्ष सात व आठ मई को पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड के हरिद्वार संयंत्र की इकाई का निरीक्षण किया था. हमने अपनी निरीक्षण रिपोर्ट में पाया कि घरेलू (भारत) व अंतर्राष्ट्रीय (अमेरिका) बाजारों में ‘बेल शर्बत’ व ‘गुलाब शर्बत’ नाम के उत्पाद पतंजलि के ब्रांड से बेचे जा रहे हैं. भारतीय लेबल पर औषधीय व आहार संबंधी अलावा दावे हैं, जबकि अमेरिका को लेकर अलग दावे हैं.

वहीं, पतंजलि समूह की ओर से इस रिपोर्ट पर अब तक कोई जवाब नहीं दिया गया है. अमेरिका में खाद्य सुरक्षा कानून हिंदुस्तान के मुकाबले बहुत ज्यादा कठोर हैं. नियमों के उल्लंघन पाए जाने पर यूएसएफडीए उस उत्पाद की पूरी खेप जब्त कर सकता है. इतना ही नहीं कंपनी पर पांच लाख डॉलर का जुर्माना भी लगाया जा सकता है. कंपनी के ऑफिसर को तीन वर्षकी कारागार भी हो सकती है. नियामक ने अगर अपनी जाँच में पाया कि कंपनी ने अमेरिका में गलत ढंग से प्रचारित कर उत्पाद बेचे हैं तो यूएसएफडीए उसे उत्पादन का आयात बंद करने को लेकर चेतावनी लेटर जारी कर सकता है. इतना ही नहीं संघीय न्यायालय से कंपनी के विरूद्ध रोक का आदेश पारित कर उस पर आपराधिक मुकदमा प्रारम्भ कर सकता है.