हिंदुस्तान के 7.20 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने का अनुमान: पढ़े पूरी खबर

हिंदुस्तान के 7.20 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने का अनुमान: पढ़े पूरी खबर

विश्व बैंक ने अनुमान लगाया है कि अगले तीन वर्ष तक हिंदुस्तान की विकास दर 7.5 प्रतिशत रहेगी. व्यक्तिगत खपत व निवेश बेहतर होने से इसको बल मिलेगा. अगले पांच वर्षतक स्थिर सरकार रहने से ऐसा संभव होने का चांस बहुत ज्यादा बढ़ गया है.

तेज गति से होगी वृद्धि

मंगलवार को जारी बैंक की वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में बोला गया है कि वित्त साल 2018-19 में हिंदुस्तान के 7.20 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने का अनुमान है. इस हिसाब से यह तेज गति से वृद्धि होने का अनुमान है.

चीन से आगे होंगे हम

वर्ष 2021 तक हिंदुस्तान की आर्थिक वृद्धि दर चाइना के छह प्रतिशत की तुलना में डेढ़ प्रतिशत अधिक होगी. रिपोर्ट में बोला गया चाइना हिंदुस्तान से बहुत ज्यादा पीछे रह जाएगा.इस हिसाब से हम संसार की सबसे तेजी से वृद्धि करने वाली प्रमुख अर्थव्यवस्था बने रहेंगे.

चीन के लिए यह अनुमान

विश्व बैंक ने चाइना के लिए जो अगले तीन वर्षों के लिए अनुमान जारी किया है उसके मुताबिक 2019 में 6.20 फीसदी, 2020 में 6.10 प्रतिशत व 2021 में 6 प्रतिशत पर आ जाने का अनुमान है. वहीं हिंदुस्तान के लिए जो अनुमान जारी किया है उसके मुताबिक 2019-20 में 7.50 प्रतिशत पर रहने का अनुमान है. इसके बाद अगले दो वित्त साल तक वृद्धि दर की यही गति बरकरार रहने वाली है.

सीएसओ ने जारी की थी यह रिपोर्ट

हाल में केन्द्र सरकार ने अपनी एक रिपोर्ट जारी की थी, जिसके अनुसार पांच वर्ष में विकास दर सबसे कम स्तर पर पहुंची है. यह पिछले वित्त साल की तीन तिमाही के मुकाबले भी बहुत ज्यादा कम है. वहीं बेरोजगारी 45 वर्ष के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है.

जनवरी-मार्च के बीच देश की विकास दर 5.8 प्रतिशत रही. हालांकि इससे पहले की तीन तिमाही में विकास दर का आंकड़ा 8.2 फीसदी, 7.1 प्रतिशत व 6.6 प्रतिशत रहा था. अगर चार तिमाही का औसत निकाला जाए तो फिर सारे वित्त साल में विकास दर 6.8 प्रतिशत रही है.

चौथी तिमाही में दुनिया की सबसे तेज गति की अर्थव्यवस्था के मुद्दे में पड़ोसी देश चाइना भी आगे हो गया है. वही बेरोजगारी का आंकड़ा भी बहुत ज्यादा बढ़ गया है. देश में बेरोजगारी 6.1 प्रतिशत आंकी गई है.