मोदी सरकार 2.0 ने अपने कार्यकाल के पहले दिन ही इस योजना को दी मंजूरी

मोदी सरकार 2.0 ने अपने कार्यकाल के पहले दिन ही इस योजना को दी मंजूरी

आजकल जिस तरह से संयुक्त परिवार टूटटे जा रहे हैं व एकल परिवार का चलन बढ़ रहा है, उससे विशेषकर निम्न व मध्यम वर्ग के लोगों को अपनी वृद्धावस्था में आर्थिक तंगी की चिंता सताना लाजमी हो गया है. लोगों की इसी चिंता को ध्यान में रखते हुए नरेन्द्र मोदी सरकार छोटे दुकानदारों, खुदरा विक्रेताओं व अपना खुद का कारोबार करने वाले लोगों के लिए पेंशन योजना लेकर आयी है. नरेन्द्र मोदी सरकार 2.0 ने अपने कार्यकाल के पहले दिन ही इस योजना को मंजूरी दे दी है.

60 वर्ष के बाद हर माह मिलेंगे 3,000 रुपये

मोदी सरकार की इस पेंशन योजना का फायदा दुकानदारों न खुदरा व्यापारियों को 60 वर्ष की आयु पूरी होने के बाद मिलेगा. जिसमें इन्हें 3,000 रुपये हर महीने पेंशन के रूप में मिलेंगे.बताते चलें कि, बीजेपी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में यह वादा किया था. यह पेंशन स्कीम सरकार की सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत लाई गई है. देश भर के कारोबारियों के अखिल भारतीय संगठन (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने बोला है कि यह व्यापारिक समुदाय की प्रमुख मांगों में से एक थी.

योजना से 5 करोड़ दुकानदारों के जुड़ने की उम्मीद

इस पेंशन योजना का फायदा अभी देश के करीब 3 करोड़ से ज्यादा दुकानदारों, खुदरा कारोबारियों व स्वरोजगार करने वाले लोगों को मिलने वाला है. वहीं, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर बोलना है कि, अगले 3 वर्ष में करीब 5 करोड़ दुकानदारों के इस पेंशन योजना से जुड़ने की उम्मीद है.

18 से 40 के बीच हो आयु

एक आधिकारिक जानकारी के अनुसार, "डेढ करोड़ रुपये सालाना से कम रकम का कारोबार करने वाले सभी खुदरा कारोबारी, स्वरोजगार करने वाले लोग व दुकानदार जिनकी आयु 18 से 40 साल के बीच है, वे सभी इस योजना का फायदा ले सकते हैं."

साझा सेवा केंद्रों पर कराना होगा रजिस्ट्रेशन

इस पेंशन योजना में शामिल होने के लिए देशभर में स्थित 3.25 लाख साझा सेवा केंद्रों पर रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है. इस योजना में आदमी द्वारा जितने रुपये जमा कराए जाएंगे, उतने ही सरकार द्वारा भी जमा कराए जाएंगे.