अपनी जान जोखिम में डालकर हर रोज पानी भरने जाता है यह बच्चा

अपनी जान जोखिम में डालकर हर रोज पानी भरने जाता है यह बच्चा

देश के कई शहर और गांव इस समय सूखे की मार से जूझ रहे हैं. गर्मी के कारण पानी की समस्या कई जगहों पर होती है. ऐसे ही पानी की किल्लत के साथ ये लोग अपना जीवन कैसे व्यतीत कर रहे हैं, जिसके बारे में आप सोच भी नहीं सकते.

Image result for पानी के लिए हर रोज़ ट्रैन का जानलेवा सफर

ऐसी ही एक कहानी आई है 10 साल के बच्चे की जिसके बारे में आपको जानकर हैरानी होगी. महाराष्ट्र के औरंगाबाद की कहानी है जिसका रियल हीरो एक 10 साल का मासूम बच्चा है. इस उम्र में जहां सभी बच्चे पढ़ने और खेलने जाते हैं, वहीं 10 वर्षीय सिद्धार्थ पानी के लिये रोज़ाना औरंगाबाद-हैदराबाद पैसेंजर ट्रेन से 14 किमी सफ़र करता है.

ये सफर कितना खतरनाक है ये आप सोच सकते हैं. सिद्धार्थ के साथ-साथ 12 साल की आयशा और 9 साल की साक्षी भी अपनी जान जोख़िम में डाल परिवार के लिये पानी लाने का काम करती हैं. पानी के लिए उन्हें क्या-क्या करना पड़ रहा है ये जानकर हैरान हो जायेंगे आप. रिपोर्ट के अनुसार, इस समय लगभग 700 गांव सूखे से प्रभावित हैं, जिसमें से एक औरंगाबाद का मुकुंदवाडी क्षेत्र भी है. सिद्धार्थ हर रोज़ डिब्बे पानी के लिये पैदल चलकर मुकुंदवाडी रेलवे स्टेशन पहुंचता है, जहां से शुरू होती है उसकी पानी यात्रा.