गैरकानूनी भारतीय-अमेरिकी लोगों की वीजा अवधि वृद्धि के बाद भी यहां हो रहा ये

गैरकानूनी भारतीय-अमेरिकी लोगों की वीजा अवधि वृद्धि के बाद भी यहां हो रहा ये

अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों की आबादी वर्ष 2010 से 2017 के बीच 7 सालों में 38 फीसदी तक बढ़ गई. दक्षिण एशियाई पैराकार समूह दक्षिण एशियन अमेरिकन्स लीडिंग टुगेदर (साल्ट) ने अपने स्नैपशॉट में बोला कि कम से कम 6,30,000 भारतीय हैं जिनका दस्तावेजों में रिकॉर्ड नहीं है. यह 2010 के बाद 72 फीसदी वृद्धि है.

Image result for गैरकानूनी भारतीय-अमेरिकी , वीजा अवधि वृद्धि

उसने बोला कि गैरकानूनी भारतीय-अमेरिकी लोगों की वृद्धि वीजा अवधि के बाद भी यहां रह रहे भारतीय प्रवासियों की वजह से हो सकती है. उसने बोला कि वर्ष 2016 में करीब 2,50,000 भारतीय अपनी वीजा अवधि खत्म होने के बाद भी यहां रुके हुए थे. सामान्य तौर पर दक्षिण एशियाई मूल के अमेरिकी निवासियों की आबादी 40 फीसदी तक बढ़ी है. ठीकमायनों में यह 2010 में 35 लाख से बढ़कर 2017 में 54 लाख हो गई.

साल 2010 के बाद से नेपाली समुदाय में 206.6 प्रतिशत, भारतीय समुदाय में 38 प्रतिशत, भूटानी नागरिकों में 38 प्रतिशत, पाकिस्तानियों में 33 प्रतिशत, बांग्लादेशी नागरिकों में 26 फीसदी व श्रीलंकाई आबादी में 15 फीसदी की वृद्धि हुई है. रिपोर्ट के अनुसार, एशियाई अमेरिकी नागरिकों की आय में असमानता सबसे अधिक है. अमेरिका में रह रहे तकरीबन 50 लाख दक्षिण एशियाई नागरिकों में करीब एक प्रतिशत गरीबी में जी रहे हैं.