कटिहार का ये दिल दहला देने वाला किस्सा जानके आपके उड़ जायेंगे होड़, पढ़े

कटिहार का ये दिल दहला देने वाला किस्सा जानके आपके उड़ जायेंगे होड़, पढ़े

कटिहार में चार वर्ष के मासूम बेटे को जहर देकर मारने के बाद व्यवसायी दंपति की फंदा लगाकर खुदकुशी करने का सामने आया खौफनाक सच, ऐसा हकीकत जिसे जानकर आप भी चौंक जाएंगे.

दरअसल बिजनेस में भाग्य ने साथ नहीं दिया तो लोन के दलदल में फंसे व्यवसायी ने हौसला नहीं हारी जैसे तैसे वह लोन को कम कर समाप्त करने की प्रयास कर रहा था. मनीष पर बैंक का लाखों रुपये का लोन था. मनीष पहले मोबाइल कारोबार से जुड़ा हुआ था. बाद में होटल व्यवसाय से जुड़ गया. इस दौरान वह लोन में डूबता चला गया. लोन की राशि व ब्याज नहीं देने पर कई बार मानसिक प्रताड़ना का भी शिकार होना पड़ा.

बैंक को समय पर लोन नहीं चुकाने के कारण परिजनों के बैंक खाता को फ्रिज कर दिया गया था. बैंक को अधिकतर रुपया वापस कर दिया था. करीब 34 लाख रुपये बकाया था. जिसे चुकाने के लिए वह जमीन बेचने के कोशिश में था. लेकिन परिजनों ने जमीन बेचने में अड़ंगा लगा दिया. इससे निराश होकर व लोन दाताओं की प्रताड़ना व धमकी से परेशान होकर व्यवासायी मनीष ने पत्नी व चार वर्ष के मासूम बेटे के साथ खुदकुशी करने का खौफनाक कदम उठाया.

यह खुलासा व्यवसायी दंपति के खुदकुशी करने वाले कमरे में टेबल पर रखे पांच पेज के सुसाइड नोट से हुआ है. सुसाइड नोट में व्यवसाय को पास करने के दौरान कई लोगों का कर्जदार बनने की बात लिखी है. वहीं घटनास्थल पर मिले तथ्यों के आधार पर पुलिस मान रही है कि फंदा पर लटकने से पहले मनीष ने पत्नी व मासूम बेटे को विषाक्त पदार्थ पिलाया होगा.

ये है मामला
कटिहार के मैथिल टोला निवासी व्यवसायी मनीष कुमार झा (42) ने पत्नी मोना (35) व बच्चे के साथ आत्महत्या कर ली. मंगलवार प्रातः काल में तीनों का मृत शरीर पुलिस ने मुफस्सिल थाना क्षेत्र के केएमसीएच के पास एक मकान से बरामद किया. मनीष केएमसीएच के पास किराए पर मकान लेकर रहता था. प्रातः काल में करीब पौने नौ बजे तक व्यवसायी का घर नहीं खुला तो आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचना दी. एएसपी हरिमोहन शुक्ला, इंस्पेक्टर निर्मल कुमार यादवेंदु दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे. घर की खिड़की व दरवाजा बंद थे. दरवाजा तोड़कर जब पुलिस अंदर घुसी तो पाया कि पति-पत्नी की डेड बॉडी बिजली के पंखा से लटका हुआ था. जबकि चार वर्ष के बेटा सम्राट का मृत शरीर पलंग पर था. पलंग के पास ही एक टेबुल पर पांच पेज का सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला. मनीष पर 34 लाख रुपये का लोन था.  

पुलिस अधीक्षक आदित्य कुमार ने बताया कि बंद कमरे में फंदे से लटके पति-पत्नी की डेड बॉडी व उसी घर में बच्चे की डेड बॉडी मिलना प्रथम दृष्टया में आत्महत्या ही प्रतीत हो रही है. शवों का पोस्टमार्टम करवा लिया गया है. परिजनों से अभी आवेदन नहीं मिले हैं. आवेदन के आधार पर ही केस दर्ज किया जाएगा.