अडानी मामले पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तोड़ी चुप्पी

अडानी मामले पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने तोड़ी चुप्पी

अमेरिकी फर्म हिंडनबर्ग (Hindenburg) की रिपोर्ट सामने आने के बाद अडानी समूह की कंपनियों के शेयरों में आई भारी गिरावट के कारण बीते दिन राष्ट्र की संसद में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया था. गिरते शेयरों के कारण अडानी ग्रुप के बाजार कैपिटलाइजेश में भारी गिरावट दर्ज की गई है. अडानी के मुद्दे पर मचे हंगामा पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बड़ा बयान दिया है. 

निर्मला सीतारमण ने बोला है कि हिंदुस्तान की स्थिति किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं हुई है. उन्होंने बोला कि हमारा विदेशी मुद्रा भंडार बीते दो दिनों में बढ़कर 8 मिलियन $ का हो गया है. FII का आना-जाना और FPO का आना-जाना तो बाजार में लगा ही रहता है, मगर अडानी के मुद्दे से हिंदुस्तान की छवि और स्थिति जरा सी भी प्रभावित नहीं हुई है. उन्होंने बोला कि नियामक अपना कार्य करेंगे. आरबीआई (RBI) ने अपना बयान जारी कर दिया है. उन्होंने बोला कि पहले भी FPO वापस लिए गए हैं. 

बता दें कि, अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग रिसर्च (Hindenburg Research) की रिपोर्ट सामने आने के बाद एशिया के कद्दावर व्यवसायी गौतम अडानी की मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रहीं है. कभी दुनिया के दूसरे सबसे बड़े धनकुबेर रहे अडानी अब विश्व के अमीरों की सूची में 21वें जगह पर खिसक गए हैं. Bloomberg Billionaires Index के अनुसार, गौतम अडानी की नेटवर्थ में आई गिरावट के कारण अब वे अरबपतियों की सूची में खिसककर 21वें जगह पर पहुंच गए हैं. उनकी कुल संपत्ति घटकर 61.3 अरब $ रह गई है और पिछले 24 घंटे में उन्हें 10.7 अरब $ का हानि झेलना पड़ा है. ये सब हिंडनबर्ग की रिपोर्ट का ही नतीजा है, जो अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयर लगातार गोते खा रहे हैं.