इस देश में कोरोना वायरस से संक्रमित की वजह से हुई इतनो मृत्यु, जाने 24 घंटे में आंकड़े

इस देश में कोरोना वायरस से संक्रमित की वजह से हुई इतनो मृत्यु, जाने 24 घंटे में आंकड़े

 देश में कोरोना वायरस से संक्रमित होकर जान गंवाने वाले लोगों की संख्या मंगलवार को 353 हो गई है जबकि इससे संक्रमित लोगों की कुल संख्या 10,815 है।

 केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि सोमवार शाम से अब तक मरने वालों की संख्या में 29 का इजाफा हुआ है, जबकि संक्रमित मरीजों की संख्या 1463 की बढ़ोतरी के साथ 10815 पर पहुंच गई है। अब तक 1189 मरीजों को उपचार के बाद स्वस्थ होने पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है व 9272 लोगों का अब भी उपचार जारी है। इनमें से 76 विदेशी नागरिक हैं।

मंत्रालय के अनुसार सोमवार शाम से पिछले 24 घंटे में 29 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है, इनमें से 11 महाराष्ट्र, सात मध्य प्रदेश व चार दिल्ली के हैं। जबकि कर्नाटक के तीन, आंध्र प्रदेश के दो व पंजाब एवं तेलंगाना के एक एक मरीज की मृत्यु पिछले 24 घंटों में हुयी है।

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश में जान गंवाने वाले 353 लोगों में से सबसे अधिक 160 महाराष्ट्र के हैं। इसके बाद मध्य प्रदेश में 50, दिल्ली में 28, गुजरात में 26 व तेलंगाना में 17 लोगों की मृत्यु हुई है। वहीं, पंजाब में 12 व तमिलनाडु में 11 तथा आंध्र प्रदेश व कर्नाटक में नौ-नौ लोगों की मृत्यु हुई है। इसके अतिरिक्त पश्चिम बंगाल सात, यूपी में पांच, जम्मू और कश्मीर में चार, केरल, हरियाणा एवं राजस्थान में तीन-तीन व झारखंड में दो तथा बिहार, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा व असम में अब तक इस संक्रमण के कारण एक-एक आदमी की मृत्यु हुई है।

पीटीआई की तालिका के अनुसार विभिन्न राज्यों में कोरोना वायरस से अब तक मरने वालों की संख्या मंगलवार शाम को कम से कम 365 व संक्रमितों की संख्या 10,986 थी।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों व विभिन्न राज्यों द्वारा घोषित आंकड़ों में अंतर है। अधिकारियों का बोलना है कि यह अंतर प्रक्रियागत देरी के कारण है।

मंत्रालय के आकंड़ों के अनुसार मंगलवार शाम तक सबसे अधिक पुष्ट मुद्दे 2,337 महाराष्ट्र में थे, इसके बाद दिल्ली में 1,510 व तमिलनाडु में 1,173 थे। राजस्थान में 879, मध्य प्रदेश में 730, तेलंगाना में 624 व यूपी में 657 मुद्दे है। गुजरात में संक्रमित लोगों की संख्या 617, आंध्र प्रदेश में 473 व केरल में 379 है।

इसके अतिरिक्त जम्मू और कश्मीर में 270, कर्नाटक में 258, पश्चिम बंगाल में 190, हरियाणा में 199, पंजाब में 176, बिहार में 66, ओडिशा में 55, उत्तराखंड में 35, हिमाचल प्रदेश में 32, असम व छत्तीसगढ़ में 31-31, झारखंड में 24, चंडीगढ़ में 21,लद्दाख में 15, अंडमान-निकोबार द्वीपसमूह में 11, गोवा एवं पुडुचेरी में सात-सात, मणिपुर एवं त्रिपुरा में दो-दो व मिजोरम एवं अरुणाचल प्रदेश में एक-एक मुद्दा सामने आया है।