बिहारराष्ट्रीय

लालू प्रसाद जाति-आधारित सर्वेक्षण का श्रेय लेने का कर रहे हैं प्रयास : सुशील मोदी

पटना: बिहार के पूर्व डिप्टी मुख्यमंत्री एवं राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने बोला कि बिहार में जाति आधारित सर्वेक्षण कराने का निर्णय उस गवर्नमेंट ने किया था जिसमें भाजपा सम्मिलित थी उन्होंने उल्लेख किया कि लालू प्रसाद जाति-आधारित सर्वेक्षण का श्रेय लेने का कोशिश कर रहे हैं, भले ही उन्होंने अपने 15 वर्ष के शासनकाल के दौरान कोई सर्वेक्षण नहीं कराया सुशील मोदी ने बोला कि जातीय, आर्थिक, सामाजिक समेत कुल 27 बिंदुओं पर सर्वे कराया गया था इन सभी विंदुओं पर ग्राम स्तर के आंकड़ों के साथ गवर्नमेंट को विस्तृत रिपोर्ट जारी करनी चाहिए उन्होंने बोला कि नगर निकायों में आरक्षण देने के लिए प्रदेश गवर्नमेंट ने बीते साल अतिपिछड़ा वर्ग आयोग बनाया था उसकी रिपोर्ट अब तक क्यों दबाए रखी गई है? मोदी ने बोला कि अभी जातीय सर्वे के केवल राज्यस्तरीय आंकड़े सामने आए हैं तथा ये अनुमान के अनुरूप हैं हम सर्वे रिपोर्ट का गंभीरतापूर्वक शोध कर अपनी नीतियाँ तय करेंगे

गौरतलब है कि सोमवार यानी 2 अक्टूबर को बिहार की नीतीश कुमार गवर्नमेंट ने बड़ा दांव चलते हुए जातिगत जनगणना के आंकड़े जारी कर दिए गवर्नमेंट की रिपोर्ट के अनुसार, बिहार में 36 फीसदी अत्यंत पिछड़ा, 27 फीसदी पिछड़ा वर्ग, 19 फीसदी से थोड़ी अधिक अनुसूचित जाति तथा 168 फीसदी अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या बताई गई है अफसरों के अनुसार, जाति आधारित गणना में कुल जनसंख्या 13 करोड़ 7 लाख 25 हजार 310 बताई गई है सीएम नीतीश ने ट्विटर पर लिखा, ‘आज गांधी जयंती के शुभ अवसर पर बिहार में कराई गई जाति आधारित गणना के आंकड़े प्रकाशित कर दिए गए हैं जाति आधारित गणना के कार्य में लगी हुई पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई! जाति आधारित गणना के लिए सर्वसम्मति से विधानमंडल में प्रस्ताव पारित किया गया था

बिहार विधानसभा के सभी 9 दलों की सहमति से निर्णय लिया गया था कि प्रदेश गवर्नमेंट अपने संसाधनों से जाति आधारित गणना कराएगी एवं तारीख 02-06-2022 को मंत्रिपरिषद से इसकी स्वीकृति दी गई थी इसके आधार पर राज्य गवर्नमेंट ने अपने संसाधनों से जाति आधारित गणना कराई है जाति आधारित गणना से न सिर्फ़ जातियों के बारे में पता चला है बल्कि सभी की आर्थिक स्थिति की जानकारी भी मिली है इसी के आधार पर सभी वर्गों के विकास एवं उत्थान के लिए अग्रेतर कार्रवाई की जाएगी बिहार में  कराई गई जाति आधारित गणना को लेकर जल्द ही बिहार विधानसभा के उन्हीं 9 दलों की बैठक बुलाई जाएगी और जाति आधारित गणना के नतीजों से उन्हें अवगत कराया जाएगा

 

Related Articles

Back to top button