राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...

राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...

सड़क हादसों पर चिंता जाहीर करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बोला कि विश्व में होने वाली कुल सड़क दुर्घटनाओं में हिंदुस्तान की हिस्सेदारी लगभग 11 प्रतिशत है और यह किसी चुपचाप महामारी से कम नहीं है केंद्रीय रक्षा मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीमा सड़क संगठन (BRO) को संबोधित करते हुए बोला कि, “आज हमारे लिए बढ़ते सड़क हादसे बड़ी चिंता का सबब हैं ये बड़ी आश्चर्य की बात है कि हमारे देश में दुनिया के कुल वाहनों का 3 फीसद से भी कम हैं, लेकिन हादसे 11 फीसद के करीब हैं 

राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को नयी दिल्ली में सीमा सड़क संगठन (BRO) हेडक्वार्टर का दौरा किया इस दौरान उन्होंने ‘सड़क, पुल, हवाई क्षेत्र और सुरंगों के लिए उत्कृष्टता केंद्र’ और ‘सड़क सुरक्षा और जागरूकता के लिए उत्कृष्टता केंद्र’ का शुरुआत किया इस दौरान उन्होंने बोला कि ये केन्द्र अपने उद्देश्यों में एक-दूसरे के पूरक हैं सिंह ने बोला कि अपनी स्थापना के वक़्त से ही, BRO दूरदराज के इलाकों में सड़क, सुरंग और अन्य बुनियादी ढांचे का निर्माण कर देश के विकास में अपनी अहम किरदार निभा रहा है

वहीं, सड़क हादसों पर चिंता जाहीर करते हुए सिंह ने बोला कि, “अधिकतर लोग उतनी सावधानी नहीं बरतते, जितनी कि बरतनी चाहिए” उन्होंने कहा, “देश में प्रति साल तक़रीबन 4.5 से 5 लाख हादसे और 1.5 लाख दुर्भाग्यपूर्ण मौतें होती हैं ये भी किसी चुपचाप महामारी से कम नहीं है इन सब से निपटने के लिए सरकार ने जो भी कदम उठाए हैं, जैसे ‘राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा नीति’ को स्वीकृति , ‘मोटर व्हीकल एक्ट 2020’, नेशनल हाइवे पर ब्लैक स्पॉट की पहचान करना आदि, उनमें भी ये सेंटर अपनी अहम किरदार निभाएंगे, ऐसा मेरा विश्वास है 


शिव मार्केट में पानी के साथ आया 15 फीट का मगरमच्छ, जान जोखिम में डाल युवा खिंचा रहे फोटो

शिव मार्केट में पानी के साथ आया 15 फीट का मगरमच्छ, जान जोखिम में डाल युवा खिंचा रहे फोटो

मध्य प्रदेश में कई ऐसी नदियां हैं, जहां भारी बारिश के चलते अक्सर जल स्तर बढ़ जाता है। ऐसे में इन नदियों में मगरमच्छों की भरमार भी मिलती है। कभी-कभी तो पानी बहकर शहरों एवं गावों तक पहुंच जाता है। हैरान करने वाली बात यह है कि बुधवार को शिवपुरी की मीट मार्केट में 15 फीट का मगरमच्छ दिखाई दिया। ऐसे में जब युवाओं ने इसे देखा तो उन्होंने वन विभाग को सूचना देने के बजाय खुद की रस्सी से बांधकर उसके साथ सेल्फी लेने लगे।

पिछले सात दिनों में शिवपुरी में अलग-अलग इलाकों में निकल चुके हैं मगरमच्छ

शिवपुरी में पिछले सात दिन में तीन मगरमच्छ अलग-अलग इलाकों में निकल चुके हैं। खास बात यह है कि यहां पर युवा इन मगरमच्छों को खुद पकड़ रहे हैं। स्थानीय निवासी द्वारा इसकी वन विभाग मगरमच्छ की सूचना भी नदीं दे रहे हैं। इतना ही नहीं युवा इन मगरमच्छों के साथ फो खिंचवा रहे हैं। शिवपुरी में जब लोगों ने 15 फीट के मगरमच्छ को देखा तो जोखिम उठाते हुए खुद ही रस्सियों से बांध दिया। इसके बाद उसे कंधों पर उठाकर मस्ती करने लगे।

सेल्फी और वीडियो बनाने में जुटे युवा

इतना ही नहीं लोगों ने उसके साथ सेल्फी, फोटो और वी़डियो बनाई। ऐसे में इन युवाओं की लापरवाही उनको भारी पड़ सकती है! क्योंकि मगरमच्छ कभी-भी युवाओं पर हमला कर सकता है।

खतरनाक प्राणी है मगरमच्छ

बता दें कि मगरमच्छ पानी और धरती पर पाया जाने वाला खतरनाक जीव है। खुरदुरी खाल, उबड़-खाबड़ शरीर और मजबूत जबड़े वाला ये प्राणी ऐसा है कि देखने पर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। ये धरती के प्राचीनतम जीवों में से एक हैं और स्तनधारी और सरीसृप दोनों ही श्रेणियों में शामिल है।


भयानक और भयावह इस जीव की खाल बुलेटप्रूफ मानी जाती है, जिसे बंदूक की गोली द्वारा भी भेदा नहीं जा सकने का दावा किया जाता है, लेकिन इसके बाद भी मानव द्वारा किये जाने वाले शिकार के कारण इसकी कई प्रजातियां विलुप्ति की कगार पर है। इसकी खाल विश्व की सर्वश्रेष्ठ खालों में गिनी जाती है और फैशन इंडस्ट्रीज में बहुत लोकप्रिय है।