राष्ट्रीय

Rajasthan News: 30 जून के बाद इस चीज के बिना नहीं मिलेगा राशन

Rajasthan News:राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में 30 जून तक चयनित पात्र लाभार्थियो द्वारा ई-केवाईसी नहीं करवाने पर योजना के अनुसार मिलने वाला राशन बंद हो जाएगा डूंगरपुर जिले में अभी तक 66 प्रतिशत परिवारों ने अपनी केवाईसी करवा ली हैवहीं 34 प्रतिशत परिवारों का ई-केवाईसी करवाना शेष है

इधर प्रदेश में 56.23 प्रतिशत परिवारों ने ई-केवाईसी करवा ली है डूंगरपुर जिले में रसद विभाग सौ-फीसदी ई-केवाईसी करवाने में लगा है लेकिन कई परिवारों के रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में होने से कठिनाई का सामना भी करना पड़ रहा है

सर्वोच्च कोर्ट के पारित फैसला की पालना के संबंध में सभी राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा पात्र लाभार्थियों को ई-केवाईसी करने के आदेश जारी किए है,जिसके अनुसार चयनित परिवारों को 30 जून तक अपनी ई-केवाईसी करवानी होगी आदेश जारी होने के बाद से डूंगरपुर जिले में रसद विभाग सक्रीय हो गया

राशन डीलर दुकानों और घर-घर जाकर चयनित परिवारों की ई-केवाईसी कर रहा है डूंगरपुर जिले के रसद विभाग के निरीक्षक पुष्पेन्द्र सिंह ने कहा की डूंगरपुर जिले में 2 लाख 87 हजार 227 राशनकार्ड परिवारों के 11 लाख 66 हजार 617 लोग राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित हैजिसमे से विभाग ने राशन डीलर्स की सहायता से अब तक 7 लाख 24 हजार 968 लोगो की ई-केवाईसी करवा दी है जबकि 4 लाख 41 हजार 649 लोगो की ई-केवाईसी होना अभी शेष है

दूसरे राज्यों में रह रहे परिवारों की बड़ी परेशानी
डूंगरपुर रसद विभाग के निरीक्षक पुष्पेन्द्र सिंह ने कहा की डूंगरपुर जिले के कई परिवार र्जोगार के चक्कर में गुजरात सहित अन्य राज्यों में रोजगाररत है ऐसे में वहा रह रहे लोगो की ई-केवाईसी करवाने में कठिनाई आ रही है

हालांकि उन्होंने कहा की डूंगरपुर जिले से सटे गुजरात राज्य के हौसला नगर, मोडासा, दाहोद और अहमदाबाद में रह रहे लोगो के पास राशन डीलर पहुँच रहे है और वहा जाकर भी ई-केवाईसी करवा रहे है ताकि कोई भी चयनित परिवार योजना के फायदा से वंचित न रहे

टॉप टेन में ये जिले शामिल
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में ई-केवाईसी करवाने में प्रदेश के टॉप टेन जिले में सबसे ऊपर कोटा जिले का नाम है इसके बाद प्रतापगढ़, बूंदी, झालावाड, चुरू, टोंक, गंगानगर, भरतपुर, अजमेर और डूंगरपुर जिला शामिल है वही सबसे फिसड्डी जिलो में जोधपुर, अलवर, बाड़मेर, जैसलमेर, बारा, जालोर उदयपुर और राजसमन्द जिले शामिल है

बहरहाल, डूंगरपुर रसद विभाग ने चयनित परिवारों में से 66 प्रतिशत से अधिक लोगो की ई-केवाईसी करवा दी है वही अन्य परिवार के लोगो की ई-केवाईसी करवाने के कोशिश विभाग की ओर से किये जा रहे है खेर अब देखने वाली बात होगी की 30 जून तक बचे हुए लोगो में से कितने लोगो की ई-केवाईसी हो पाती है वही कितने लोग ई-केवाईसी के अभाव में योजना के फायदा से वंचित रह जायेंगे

Related Articles

Back to top button