पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने बोली यह बात

पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने बोली यह बात

पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने रविवार (1 दिसंबर) को बोला कि करतारपुर गलियारे के बारे में पाक के एक वरिष्ठ मंत्री के खुलासे ने इस पहल के पीछे इस्लामाबाद के नापाक इरादों को उजागर कर दिया है. पाक के एक वरिष्ठ मंत्री ने बोला है कि करतारपुर गलियारे को खोलना, वहां के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की सोच है व इससे हिंदुस्तान को नुकसान होगा.

सिंह ने पाक के रेल मंत्री शेख राशिद की स्वीकारोक्ति पर गहरी चिंता प्रकट की व बोला कि मामले पर उनके रूख की पुष्टि करते हुए राशिद ने गलियारे के पीछे की पाक की पूरी सोच को उजागर कर दिया है. सीएम ने राशिद के बयान पर कड़ी असहमति जतायी, जिसमें उन्होंने बोला था कि 'गलियारा हमेशा हिंदुस्तान को नुकसान पहुंचाएगा.

गलियारा खोले जाने को हिंदुस्तान की सुरक्षा व अखंडता के लिए खतरा बताए जाने पर सिंह ने पाक को हिंदुस्तान के विरूद्ध किसी भी तरह के दुस्साहस का कोशिश नहीं करने के लिए आगाह किया. पंजाब के सीएम ने एक बयान में बोला कि उन्होंने हमेशा बोला है कि एक सिख होने के नाते गलियारा खोले जाने पर वह बहुत खुश हैं, लेकिन हिंदुस्तान के समक्ष खतरे को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

राशिद ने शनिवार (30 नवंबर) को दावा किया कि ऐतिहासिक करतारपुर गलियारा शुरु करने का विचार सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा का था व यह बात हिंदुस्तान को हमेशा आहत करती रहेगी. मंत्री का यह बयान उसकी सरकार के उस दावे के उल्टा है, जिसमें इस पहल को पीएम इमरान खान का विचार बताया गया था.

सिंह ने कहा, ''गलियारा खोले जाने में हमारी भलमनसाहत में कमजोरी देखने की भूल मत करो. उन्होंने चेताया कि हिंदुस्तान सीमा पर या अपने लोगों पर किसी भी तरह के पाक की हरकत का करारा जवाब देगा." सिंह ने बोला कि भारत, पाक को उसकी घृणित मंशा को पूरा करने में कभी सफल नहीं होने देगा. इस तरह की किसी भी हरकत का वो जवाब दिया जाएगा कि फिर सिर उठाने की हौसला भी नहीं करेंगे.

सिख धर्म के संस्थापक, गुरु नानक देव के 550 वे प्रकाश पर्व पर भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को वीजा मुक्त यात्रा की सुविधा प्रदान करने के लिए नौ नवंबर को इस गलियारे को खोला गया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने गलियारे का हिंदुस्तान वाले हिस्से में व पीएम इमरान खान ने पाक वाले हिस्से में इसका उद्घाटन किया था.

इस मामले पर लगातार सावधानी बरतने का आग्रह करने वाले सिंह ने चेताया है कि गलियारा खोलकर सिखों की सहानुभूति बटारने का कोशिश कर रहा पाक आगे आईएसआई समर्थित 'रेफरेंडम 2020 एजेंडा को बढ़ावा देने की सोच रहा है. अलग सिख देश बनाने के लिए विदेश स्थित संगठन 'सिख फोर जस्टिस ने 'रेफरेंडम 2020 एजेंडा मुहिम चला रखा है. हिंदुस्तान सरकार ने एसएफजे पर प्रतिबंध लगा रखा है.

उन्होंने कहा, ''विभिन्न तथ्यों को देखते हुए यह जरूरी है, खासकर यह कि बाजवा ने इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान गलियारा निर्माण के बारे में पाकिस्तानी निर्णय के बारे में पंजाब के तत्कालीन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को बताया था." पहले भी इस वस्तु का जिक्र किए जाने की याद दिलाते हुए सिंह ने कहा, ''इमरान ने जब पदभार भी नहीं संभाला था तब सेना प्रमुख ने सिद्धू से इस बारे में बात की थी. बाजवा के बिना गलियारा पर निर्णय मुमकिन नहीं था."

उन्होंने सिद्धू से भी सतर्कता बरतने का अनुरोध करते हुए बोला कि क्रिकेटर रह चुके पाकिस्तानी पीएम से उनकी दोस्ती के कारण इस निर्णय को लेकर किसी तरह का नुकसान नहीं होना चाहिए. कांग्रेस पार्टी नेता सिद्धू का सीएम सिंह के साथ विवाद चलता रहा है. पिछले वर्ष अगस्त में खान के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान बाजवा को गले लगाने पर सिद्धू की बहुत ज्यादा किरकिरी हुई थी. पूर्व क्रिकेटर सिद्धू ने उस समय दावा किया था कि जनरल बावजा ने उन्हें करतारपुर गलियारा खोले जाने के प्रयासों के बारे में बताया था.