जम्मू और कश्मीर के दौरे पर गए 36 में से केवल पांच केंद्रीय मंत्री करेंगे कश्मीर का दौरा

जम्मू और कश्मीर के दौरे पर गए 36 में से केवल पांच केंद्रीय मंत्री करेंगे कश्मीर का दौरा

केंद्र सरकार के सम्पर्क प्रोग्राम के तहत आज यानी मंगलवार से अगले तीन दिनों तक जम्मू और कश्मीर के दौरे पर गए 36 में से केवल पांच केंद्रीय मंत्री कश्मीर का दौरा करेंगे. 

इसका मकसद लोगों को जम्मू और कश्मीर का विशेष दर्जा हटने से होने वाले लाभों को बताना है. अधिकारियों के अनुसार, 36 केंद्रीय मंत्रियों में से केवल पांच ही आर्टिकल 370 समाप्त होने के बाद केन्द्र के आउटरीच प्रोग्राम के हिस्से के रूप में कश्मीर के तीन जिलों की यात्रा करेंगे.

बताया जा रहा है कि पांच केंद्रीय मंत्री- संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल, अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, रक्षा प्रदेश मंत्री श्रीपद नाइक व गृह प्रदेश मंत्री जी किशन रेड्डी आठ सरकारी व सार्वजनिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे.

भाजपा के पदाधिकारियों के अनुसार, इनमें से अधिकतर प्रोग्राम केन्द्र की विकास योजनाओं के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए सरकारी प्रोग्राम हैं, जिन्हें अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद जम्मू और कश्मीर में प्रारम्भ किया गया था. बता दें कि केन्द्र सरकार ने जम्मू और कश्मीर को दो हिस्सों में बांटकर कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बना दिया है. 

मंगलवार को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी श्रीनगर के बाहरी इलाके में स्थित दारा पंचायत के फकीर गुजरी गांव का दौरा करेंगे. जहां वह एक हाई स्कूल की आधारशिला रखेंगे. वह हरवन के सरबंद में जल संरक्षण परियोजना की आधारशिला भी रखेंगे. 

गृह प्रदेश मंत्री जी किशन रेड्डी बुधवार से दो दिनों की यात्रा पर मध्य कश्मीर के गांदरबल जिले का दौरा करेंगे. शुक्रवार को वह पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज गांदरबल में एक समारोह की अध्यक्षता करेंगे. वहीं, गुरुवार से प्रारम्भ होने वाली दो दिवसीय यात्रा पर रविशंकर प्रसाद बारामूला के डाक बंगलो में एक समारोह में शामिल होंगे, जहां वह एक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन करेंगे. इसके अलावा, केंद्रीय मंत्री नाइक गुरुवार को श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर (SKICC) समारोह में भाग लेंगे.

केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक हरवन की यात्रा करेंगे व शुक्रवार को शहर के केन्द्र में एक सार्वजनिक मीटिंग में भाग लेंगे, जबकि प्रसाद बारामुला जिले के डाक सोपोर शहर में एक सार्वजनिक व आधिकारिक मीटिंग में भाग लेंगे.

इससे पहले सोमवार को भी विशेष सम्पर्क प्रोग्राम के तहत चार व केंद्रीय मंत्रियों ने जम्मू क्षेत्र के विभिन्न इलाकों का दौरा किया. उन्होंने जन सभाओं को संबोधित किया व विभिन्न विकास योजनाओं का उद्घाटन किया. जम्मू का दौरा करने वाले चार केंद्रीय मंत्रियों में जनरल (सेवानिवृत्त) बीके सिंह, देबाश्री चौधरी, प्रताप चंद्र सारंगी व अर्जुन मुंडा शामिल हैं.

आतंक ग्रस्त जिले में नहीं जाएंगे
कोई भी मंत्री आतंकग्रस्त दक्षिण कश्मीर के पुलवामा, शोपियां, अनंतनाग व कुलगाम में नहीं जाएगा. पीएम नरेंद्र मोदी ने पिछले हफ्ते मंत्रिपरिषद के सदस्यों के साथ मीटिंग की थी व उन्हें लोगों को विकास परियोजनाओं की जानकारी न केवल शहरी बल्कि ग्रामीण क्षेत्र तक देने का अनुरोध किया था.