महाराष्ट्र कांग्रेस पार्टी के नेता मिलिंद देवड़ा ने की AAP की तारीफ, इसपर भड़के अजय माकन

महाराष्ट्र कांग्रेस पार्टी के नेता मिलिंद देवड़ा ने की AAP की तारीफ, इसपर भड़के अजय माकन

 दिल्ली में आम आदमी पार्टी (AAP) ने एक बार फिर से सरकार बना ली है। अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने रविवार को तीसरी बार सीएम पद की शपथ ली। दिल्ली चुनाव में आप की इस ऐतिहासिक जीत से कांग्रेस पार्टी में बहुत ज्यादा हलचल मची है।

 पार्टी के कुछ नेता जहां केजरीवाल को शुभकामना दे रहे हैं, वहीं कुछ नेता आपस में ही उलझते दिखे। महाराष्ट्र कांग्रेस पार्टी के नेता मिलिंद देवड़ा ने देर रात कई ट्वीट्स कर अरविंद केजरीवाल व आम आदमी पार्टी की तारीफ की, जिसके बाद अजय माकन ने उन्हें जवाब देते हुए बोला कि अगर आपको पार्टी छोड़नी है, तो बेशक छोड़ सकते हैं।

कांग्रेस पार्टी नेता मिलिंद देवड़ा ने रविवार देर रात को एक ट्वीट किया, जिसमें प्रदेश सरकार के द्वारा रेवेन्यू के मोर्चे पर कार्य की तारीफ की है। उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘एक ऐसी जानकारी साझा कर रहा हूं जो कि कम लोग जानते हैं। अरविंद केजरीवाल सरकार ने पिछले पांच वर्ष में रेवेन्यू को डबल कर दिया है व अब ये 60 हजार करोड़ तक पहुंच गई है। दिल्ली अब हिंदुस्तान का सबसे आर्थिक रूप से सक्षम प्रदेश बन रहा है। ’


देवड़ा के इस पोस्ट पर अब तक 11 हजार से ज्यादा लाइक्स आ चुके हैं। 2700 बार इस ट्वीट को री-ट्वीट किया जा चुका है। दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस देवड़ा के वीडियो को री-ट्वीट किया है।

मिलिंद देवड़ा का आम आदमी पार्टी की इतनी तारीफ करना कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता अजय माकन को पसंद नहीं आया। उन्होंने देवड़ा को टैग करते हुए ट्वीट किया, 'भाई, अगर आपको कांग्रेस छोड़नी है, तो छोड़ सकते हैं। या फिर आधे पके तथ्यों को अच्छा करें। ’

अजय माकन ने इसी के साथ कुछ डाटा साझा किया। उन्होंने आगे लिखा:-

1997-98 (रेवेन्यू) 4073 करोड़

2013-14 (रेवेन्यू) 37459 करोड़

कांग्रेस पार्टी सरकार के दौरान 14.87 प्रतिशत रेवेन्यू बढ़ा

2015-2016 (रेवेन्यू) 41129

2019-20 (रेवेन्यू) 60000

आप सरकार के दौरान 9.90 प्रतिशत रेवेन्यू बढ़

बता दें कि मिलिंद देवड़ा ने आप की तारीफ से एक दिन पहले कांग्रेस पार्टी नेता पीसी चाको की आलोचना की थी। चाको ने आरोप लगाया था कि दिल्ली में कांग्रेस पार्टी की जमीन शीला दीक्षित के वक्त से ही निर्बल पड़ गई थी।

इस पर असहमति जताते हुए मिलिंद देवड़ा ने ट्विटर हैंडल से लिखा है था, 'शीला दीक्षित एक दूरदर्शी राजनेता व प्रशासक थीं। उनके सीएम रहते हुए कांग्रेस पार्टी ने दिल्ली में कई विकास के कार्य किए। उनके शासनकाल में दिल्ली में कांग्रेस पार्टी बहुत मजबूत हुई थी। दिल्ली चुनाव 2020 में कांग्रेस पार्टी की बुरी पराजय के लिए दिवंगत शीला दीक्षित को जिम्मेदार ठहराना बिल्कुल गलत व दुखद है। '