राष्ट्रीय

India-Gulf: पीएम मोदी के नेतृत्व में कैसे भारत के करीब आए खाड़ी के देश…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासनकाल में खाड़ी के देश, हिंदुस्तान के करीब आए हैं और हिंदुस्तान की विस्तृत पड़ोस नीति का अभिन्न अंग बन गए हैं. इटली के इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल पॉलिटिकल स्टडीज (आईएसपीआई) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में यह दावा किया है. रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2014 में पीएम मोदी के कार्यभार संभालने के बाद हिंदुस्तान के खाड़ी के राष्ट्रों के साथ संबंध पूरी तरह से बदल गए हैं. खाड़ी के राष्ट्र अब हिंदुस्तान की विदेश नीति और सुरक्षा नीति में अहमियत पर आ गए हैं.

खाड़ी के राष्ट्रों में असर बढ़ा रहा भारत

आईएसपीआई की रिपोर्ट में बोला गया है कि हिंदुस्तान खाड़ी के राष्ट्रों में अपना असर बढ़ा रहा है. पहले हिंदुस्तान और खाड़ी के राष्ट्रों के संबंध ऊर्जा, व्यापार पर ही फोकस थे, लेकिन अब दोनों पक्षों के बीच सियासी सहयोग, निवेश, रक्षा और सुरक्षा योगदान भी बढ़ा है. हिंदुस्तान की प्रयास है कि खाड़ी के राष्ट्रों से निवेश को आकर्षित किया जाए और अपनी आर्थिक विकास की रेट को गति दी जाए. साथ ही भारत, अरब सागर और खाड़ी में अपनी क्षेत्रीय सुरक्षा चुनौतियों से निपटना चाहता है और अपने असर और पहुंच को मजबूत करना चाहता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सत्ता संभालने के बाद वर्ष 2015 में संयुक्त अरब अमीरात के दौरे पर गए थे और यह किसी भी भारतीय पीएम का 34 वर्ष में पहला यूएई दौरा था. वहीं अगस्त 2019 में बहरीन का प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का दौरा किसी भारतीय पीएम का पहला बहरीन दौरा था. अब पीएम मोदी के कार्यकाल में हिंदुस्तान और यूएई के संबंधों में कितनी घनिष्टता आ चुकी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सत्ता संभालने के बाद से प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी सात बार यूएई का दौरा कर चुके हैं.

Related Articles

Back to top button