राष्ट्रीय

इंडिया गठबंधन 2 अक्टूबर को पैदल मार्च में गांधी की प्रेम, शांति और सद्भावना शिक्षाओं का…

मुंबई, 30 सितंबर (आईएएनएस). सत्तारूढ़ बीजेपी (भाजपा) द्वारा राष्ट्र में अपनाई जा रही ‘फूट डालो और राज करो’ की नीति से चिंतित विपक्षी गठबंधन इण्डिया राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 154वीं जयंती 2 अक्टूबर को यहां ‘मैं भी गांधी’ शांति मार्च निकालेगा. 

मुंबई कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष प्रोफेसर वर्षा गायकवाड़ समेत इण्डिया गठबंधन के शीर्ष नेता ने बोला कि मुंबई और बाकी महाराष्ट्र में नफरत की घटनाएं लगातार हो रही हैं.

वर्षा ने कहा, “इन घटनाओं की आलोचना करते हुए समाज में सद्भावना पैदा करने की भी कठोर आवश्यकता है. इण्डिया गठबंधन 2 अक्टूबर के पैदल मार्च के माध्यम से लोगों के बीच गांधीजी की प्रेम, शांति और सद्भावना की शिक्षाओं का प्रसार करेगा.

उनके साथ सपा के प्रदेश अध्यक्ष और विधायक अबू आजमी, पूर्व विधायक और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी पार्टी की नेता विद्या चव्हाण, एनसीपी शहर अध्यक्ष राखी जाधव, आम आदमी पार्टी शहर अध्यक्ष प्रीति शर्मा-मेनन, सीपीआई के प्रकाश रेड्डी, डीएमके के राज्य प्रमुख जैसे भारतीय घटक दल के नेता भी थे. मीरान, सीपीआई-एम के शैलेन्द्र कांबले, पीजेंट एंड वर्कर्स पार्टी के नेता साम्य कोर्डे, जद-यू नेता अमित झा, राष्ट्रीय जनता दल के नेता मोहम्मद इकबाल और अन्य.

उन्होंने बोला कि गांधीजी और पूर्व पीएम लालबहादुर शास्त्री की जयंती के अवसर पर सोमवार दोपहर मेट्रो सिनेमा से मंत्रालय तक ‘मैं भी गांधी’ पदयात्रा में हजारों लोगों के शामिल होने की आशा है.

पदयात्रा में तुषार गांधी, डाक्टर जीजी पारिख, फ़िरोज़ मीठीबोरवाला, गुड्डी एसएल, राम पुनियानी, इरफ़ान इंजीनियर, संध्या गोखले, निरंजनी शेट्टी, प्रेरणा देसाई, अली भोजानी जैसे गांधीवादी और धर्मनिरपेक्षतावादी शामिल होंगे.

वर्षा गायकवाड़ ने बोला कि देशभर में घृणा अत्याचार की घटनाएं बढ़ रही हैं, चाहे वह मराठी लोगों को आवास न देने के रूप में हो या शहर में एक मराठी लड़के की पिटाई के रूप में, जिसके लिए बीजेपी और आरएसएस उत्तरदायी हैं.

वर्षा ने प्रश्न किया, “हम इन घटनाओं और बीजेपी के दोहरेपन की निंदा करते हैं. जब पीएम मोदी विदेश जाते हैं, तो वह महात्मा गांधी और गौतम बुद्ध की प्रतिमा के सामने झुकते हैं, लेकिन घर वापस आकर उनके अनुयायी गांधीजी के हत्यारों का महिमामंडन करते हैं, गालियां देते हैं, राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान का अपमान करते हैं. राज्य गवर्नमेंट इन लोगों के विरुद्ध कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है?”

पदयात्रा में शामिल होने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं ने बोला कि इसकी थीम ‘नफ़रत हिंदुस्तान छोड़ो, मोहब्बत से दिलों को जोड़ो, हिंदुस्तान जोड़ो, हिंदुस्तान जोड़ो’ होगी और यह सार्वभौमिक शांति, भाईचारे, सांप्रदायिक सद्भाव के आदर्शों का प्रचार करेगी.

 

Related Articles

Back to top button