हरियाणा में कोविड केयर सेंटरों की संख्या में होगी बढ़ोत्तरी, जाने लागु होगी यह निगरानी

हरियाणा में कोविड केयर सेंटरों की संख्या में होगी बढ़ोत्तरी, जाने लागु होगी यह निगरानी

हरियाणा में कोविड केयर सेंटरों की संख्या बढ़ाई जाएगी. यह आदेश मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने जिलों में कोविड-19 के हालातों की समीक्षा करते हुए जारी किए हैं.

इसके साथ ही कंटेनमेंट जोन की निगरानी अब सीसीटीवी कैमरों से होगी. अरोड़ा ने बोला कि कोरोना से लड़ने के लिए प्रदेश सरकार के प्रभावी प्रयासों की वजह से अब तक प्रदेश की स्थिति अच्छा बनी हुई है.


मुख्य सचिव ने आदेश दिया कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए जिलों में वेंटिलेटर्स, ऑक्सीजन सिलेंडर तथा अन्य चिकित्सा उपकरणों की उपलब्धता व आपूर्ति सुनिश्चित करने, टेस्टिंग की सुविधा को बढ़ाने के साथ-साथ होम आइसोलेशन को बढ़ावा दिया जाए. इसके अलावा, कोविड केयर सेंटर की संख्या बढ़ाने पर भी जोर दिया जाए. 
सभी जिलों में कोविड केयर सेंटरों को अस्पतालों के साथ लिंक किया जाए व इन सेंटरों पर एक ऑफिसर की विशेष तौर पर ड्यूटी लगाई जाए जो सभी प्रकार की व्यवस्थाओं के बारे में उत्तरदायी होगा. उन्होंने बोला कि प्रदेश के अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता सुनिश्चित करें. ताकि किसी भी इमरजेंसी स्थिति से निपटने में पूरी तरह से तैयार रहें. अधिकारियों ने जिलों में टेस्टिंग सुविधा बढ़ाने, कंटेनमेंट जोन के सीमा निर्धारण, होम आइसोलेशन को बढ़ावा देना व जरूरतमंदों के लिए इंस्टिट्यूशनल आइसोलेशन की व्यवस्था करने व गतिविधियों के ठीक प्रबंधन के लिए प्रत्येक काम के लिए विशेष ऑफिसर की ड्यूटी लगाने जैसे विभिन्न सुझाव भी दिए.

आयुष्मान योजना में शामिल कोविड मरीजों के प्रबंधन पैकेज में 20 प्रतिशत वृद्धि

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बोला है कि कोविड-19 मरीजों को आयुष्मान भारत योजना में शामिल करने के साथ ही इलाज के लिए इनके चिकित्सा प्रबंधन पैकेज में 20 फीसदी की वृद्धि की गई है. प्रदेश के 22.14 लाख से अधिक लोगों के आयुष्मान भारत के गोल्डन कार्ड बनाए गए हैं, जिनको सौ फीसदी आधार से लिंक किया गया है. 

1.12 लाख से अधिक मरीजों का इलाज आयुष्मान भारत योजना के तहत करवाया जा चुका है, जिन पर प्रदेश सरकार ने अभी तक करीब 135.33 करोड़ खर्च किए हैं. इनमें व्यक्तिगत अस्पतालों में इलाज करवाने वाले करीब 90 हजार से अधिक मरीजों पर 107.2 करोड़ तथा सरकारी अस्पातलों के 21815 मरीजों पर 28.1 करोड़ की राशि खर्च की गई है. 

आयुष्मान भारत योजना के उप मुख्य कार्यकारी ऑफिसर डाक्टर रवि विमल ने बताया कि लाभार्थियों का इलाज करने वाले अस्पतालों का भुगतान निर्धारित समयावधि में किया जा रहा है. लोगों की सुविधा के लिए प्रदेश के सभी सरकारी एवं पैनल के व्यक्तिगत अस्पतालों में आयुष्मान भारत योजना के कार्ड निःशुल्क बनाए जाते हैं. 

इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर पर भी छोटी शुल्क सहित यह कार्ड सृजन की सुविधा प्रदान है. अभी 526 सरकारी एवं व्यक्तिगत अस्पताल हरियाणा सरकार के पैनल पर हैं. इसके अतिरिक्त अन्य अस्पताल भी पैनल पर होने की लाइन में है. केन्द्र सरकार ने देश के 146 अस्पतालों को गुणवत्ता प्रमाण लेटर प्रदान किया है, जिनमें से 72 अस्पताल हरियाणा से संबंधित है.