गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एल। वाई। ने नागरिकों के लिए लिखा यह बड़ा लेटर 

गौतमबुद्धनगर के डीएम सुहास एल। वाई। ने नागरिकों के लिए लिखा यह बड़ा लेटर 

गौतमबुद्धनगर (Gautam Budh Nagar) के डीएम सुहास एल। वाई। (DM Suhas LY) ने गुरुवार को सभी जिले के सभी नागरिकों के लिए एक खुला लेटर लिखा, जिसमें उन्होंने सभी से कोरोना के विरूद्ध इस अभियान में योगदान करने के अपील की है. जिलाधिकारी ने लेटर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के विरूद्ध चल रही लड़ाई व जिला प्रशासन के अब तक के प्रयासों का जिक्र किया है।

डीएम का लेटर ऐसे समय में आया है, जब हाल ही में ग्रेटर नोएडा स्थित सुपरटेक इकोविलेज प्रथम में कोरोना संक्रमित दो मरीज मिलने के बाद पूरी सोसाइटी को सील कर दिया गया था। जिसे लेकर सोसाइटी के लोगों व जिला प्रशासन के बीच टकराव हुआ था।

डीएम सुहास एल। वाई। ने लेटर में लिखा है, हमारी भौगोलिक परिस्थितियों के कारण भी बड़ी चुनौतियां रही हैं। हम सराहना करते हैं कि हमारे आसपास के सभी लोकल प्रशासन भी अपने क्षेत्रों में होने वाली विशिष्ट चुनौतियों से निपटने के लिए अपनी पूरी प्रयास कर रहे हैं। हम यह भी समझते हैं कि कुछ हद तक नागरिकों को अंतराज्यीय सीमाओं व नियमों के कारण भी कठिनाई हुई है।

उन्होंने लेटर में लिखा है, कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने के आंकड़ों व उसकी दर का अध्ययन करने के बाद ये निर्णय लेने पड़े। लेकिन हमें यह समझना चाहिए कि हमारे स्वास्थ्य से बढ़कर किसी भी कठिनाई की मूल्य ज्यादा नहीं हो सकती। हम इस बात का भी ध्यान रख रहे हैं कि जिले व प्रदेश स्तर पर ऐसे निर्णय लिए जाएं, जिनसे आम नागरिकों के ज़िंदगी व उनके स्वास्थ्य को सुरक्षित रखा जा सके।

डीएम ने अपने लेटर में यह भी लिखा, गौतमबुद्धनगर जिले में 10,000 में से 5000 लोगों का कोरोनावायरस का टेस्ट करवाया जा चुका है, जो राष्ट्रीय दर के मुकाबले दोगुना से भी ज्यादा है। स्वास्थ्य विभाग जिले में कार्य कर रही प्राइवेट प्रयोगशाला से भारतीय काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के नियम व कायदों का पूरी तरह पालन करवा रहा है। ताकि इन प्रयोगशालाओं में आने वाली रिपोर्ट में किसी ढंग की कमी न निकले।