Delhi AIIMS: जानें कल कैसे होगा OPD मरीजों का इलाज

Delhi AIIMS:  जानें कल कैसे होगा OPD मरीजों का इलाज

नई दिल्ली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली का सर्वर अभी भी ठप पड़ा है ई-हॉस्पिटल सर्वर डाउन (E- Hospital Server) होने के कारण ओपीडी (OPD) सहित कई सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं साइबर हमले बाद एम्स रिकॉर्ड में सेंध और सर्वर ठप होने से रोगियों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है इस बीच एम्स ने बयान जारी कर बोला है कि साइबर अटैक के बाद एनआईसी (NIC)  सहित कई सरकारी एजेंसियों के एक्सपर्ट्स फाइलों को री-स्टोर करने में लगे हुए हैं इस बीच ओपीडी, इमरजेंसी और लैब सहित कई सेवाओं को मैनुअली कर दिया गया है

आपको बता दें कि एम्स के मुख्य सर्वर बुधवार सुबह 6 बज कर 45 मिनट से ही नहीं खुल रहे हैं हैकर्स ने एम्स की कई फाइलों को नष्ट कर दिया है 36 घंटे बाद भी ई-हॉस्पिटल सर्वर को ठीक नहीं किया जा सका है दो दिन बाद भी स्थिति संभल नहीं पा रही है ऐसे में एम्स की सभी सेवाएं कई घंटों से मैनुअल मोड पर चल रही हैं

एम्स में नहीं खुल रही है रोगियों की फाइल

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर
राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर

 

एम्स के सर्वर ठप हो जाने के राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र के साइबर एक्सपर्ट्स बुधवार से ही डाटा रिकवर कनरे की प्रयास कर रहे हैं एम्स सूत्रों की मानें तो संस्थान के मुख्य सर्वर के साथ-साथ बैकअप सर्वर की भी फाइलें बुरी तरह करप्ट हो गई हैं साइबर एक्सपर्ट्स पवन दुग्गल कहते हैं, एम्स में हैंकिंग का यह अपने तरह का गंभीर मामला है राष्ट्र के सबसे बड़े हॉस्पिटल में सेंध लगा कर हैकर्स मेडिकल डाटा को बेच सकते हैं

 इनकम टैक्स का नोटिस? ऐसे सुधार करें

बुधवार सुबह से ही हर विभाग से फाइल नहीं खुलने वाली शिकायतें आने लगी थीं सुबह 8 बजे ओपीडी से भी कॉल आती है कि फाइल नहीं खुल रही हैं एस बीच गनीमत रही कि हैकर्स ने एम्स के डेंटल एजुकेशन और रिसर्च केंद्र में उपस्थित दूसरे बैकअप सर्वर में सेंध नहीं लग सकी यदि एनआईसी की टीम समय पर नहीं पहुंचती तो एम्स के दूसरे बैकअप में भी सेंध लग सकती थी यदि ऐसा होता तो एम्स के अनेक रोगियों का ब्योरा डिलीट हो सकता था