देवरिया के बरहज में सवार 20 यात्रियों की सांस दो घंटे तक अटकी

देवरिया के बरहज में सवार 20 यात्रियों की सांस दो घंटे तक अटकी

देवरिया के बरहज में रविवार की प्रातः काल एक जुगाड़ू स्टीमर सरयू की धारा में बह गया. इस दौरान उस पर सवार 20 यात्रियों की सांस दो घंटे तक अटकी रही. बहुत ज्यादा कोशिश के बाद सभी यात्रियों को सुरक्षित किनारे पहुंचाया गया. इसके बाद यात्रियों की जान में जान आई

.

सरयू का जलस्तर बढ़ने के चलते इस समय बरहज घाट से पीपा पुल को हटा दिया गया है. उसकी स्थान पीडब्ल्यूडी टेंडर देकर लोगों को नदी पार कराता है. ठेकेदार ने इसके लिए जुगाड़ू स्टीमर (बड़ी नांव में इंजन लगाकर बनाए गए) लगाया है. रविवार की प्रातः काल करीब 9 बजे परसिया देवार से 20 यात्रियों को लेकर एक स्टीमर बरहज के लिए चला. स्टीमर पर 8 बाइक और एक दर्जन साइकिल भी लदी थी. बीच मझधार में पहुंचने पर स्टीमर की पंखी में बोरा फंसने से वह अनियंत्रित होकर नदी की धारा में बहने लगा. स्टीमर के अनियंत्रित होते ही उस पर सवार यात्रियों की सांस अटक गई. स्टीमर बहने की जानकारी मिलते ही प्रशासनिक अमले में भी अफरा-तफरी मच गई. 

कुछ ही देर में मौके पर नायब तहसीलदार जितेंद्र कुमार सिंह व कमलाकांत भाष्कर के अतिरिक्त चौकी इंचार्ज आशुतोष कुमार पहुंच गए. अधिकारियों ने मदद के लिए पीडब्ल्यूडी का एक स्टीमर भेजा लेकिन वह भी रेता पर जाकर फंस गया. करीब आठ सौ मीटर तक बहने के बाद नदी बीच एक रेता पर चालक लालधर माझी ने बेकार स्टीमर को रोका. चालक ने वहां पर लंगर डाल दिया. बहुत ज्यादा कोशिश के बाद पंखी में फंसे बोरा को निकाल कर स्टीमर चालू किया गया. इसके बाद सभी यात्री किनारे पहुंचे.