अमेरिका ने नहीं दी इमरजेंसी इस्तेमाल की स्वीकृति, कोवैक्सीन को बड़ा झटका!

अमेरिका ने नहीं दी इमरजेंसी इस्तेमाल की स्वीकृति, कोवैक्सीन को बड़ा झटका!

नई दिल्ली  भारत बायोटेक की कोविड-19 वैक्सीन 'कोवैक्सीन' (Covaxin) को झटका लगा है अमेरिका ने इस वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की स्वीकृति (EUA) देने से इन्कार कर दिया है बोला जा रहा है कि पूरे डेटा न होने के कारण ये निर्णय लिया गया है अमेरिकी खाद्य और दवा नियामक (FDA) ने इसके अमेरिकी साझेदार ओक्यूजेन इंक को सलाह दी है कि वो भारतीय वैक्सीन के इस्तेमाल की स्वीकृति हासिल करने के लिए और अधिक डेटा के साथ जैविक लाइसेंस आवेदन (BLA) के अनुसार फिर से आवेदन करें बता दें कि कोवैक्सीन हिंदुस्तान की पहली और वैसे एकमात्र स्वदेशी वैक्सीन है

ओक्यूजेन ने गुरुवार को एक बयान में बोला था कि वो एफडीए की सलाह के मुताबिक कोवैक्सीन के लिए बीएलए दाखिल करेगी बीएलए, एफडीए की ‘पूर्ण अनुमोदन’ व्यवस्था है, जिसके अनुसार दवाओं और टीकों की स्वीकृति दी जाती है ऐसे में कोवैक्सीन को अमेरिकी स्वीकृति मिलने में थोड़ा और समय लग सकता है ओक्यूजेन ने कहा, ‘कंपनी अब कोवैक्सीन के लिए इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति पाने की प्रयास नहीं करेगी इसके साथ ही कुछ अलावा जानकारी और डेटा के लिए निवेदन भी किया गया है 

क्या वैक्सीन में कोई कमी है?

बता दें कि अमेरिका में इमरजेंसी इस्तेमाल के स्वीकृति न मिलने का मतलब ये नहीं है कि वैक्सीन में कोई कमी है बल्कि अमेरिका की FDA वैक्सीन ट्रायल के कुछ और नतीजों को देखना चाहती है मसलन FDA ये जानना चाहती है कि ये वैक्सीन कितनी सुरक्षित और प्रभावी है बता दें कि कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन से भी वैसे स्वीकृति नहीं मिली है

अमेरिका में जरूर लॉन्च होगी वैक्सीन

ओक्यूजेन के मुख्य कार्यकारी ऑफिसर और सह-संस्थापक शंकर मुसुनुरी ने कहा, ‘‘हालांकि, हम अपने ईयूए आवेदन को आखिरी रूप देने के बहुत करीब थे, लेकिन एफडीए ने हमें बीएलए के जरिए निवेदन करने की सलाह दी है इससे अधिक समय लगेगा, लेकिन हम कोवैक्सीन को अमेरिका में लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं 

डेटा का इंतज़ार

भारत बॉयोटेक को अपने Covid-19 टीके कोवैक्सीन फेज-3 के डाटा को वैज्ञानिक पत्रिकाओं को दिए जाने के बाद दो से चार महीने में टीके के जानकारों द्वारा समीक्षा (पीयर रीव्यू) की आशा है हिंदुस्तान बॉयोटेक में Covid-19 टीकों के परियोजना प्रमुख रेचेस इल्ला ने ये जानकारी दी कंपनी ने इस टीके का डाटा अब तक सार्वजनिक नहीं किया है उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि अब तक कोवैक्सीन के नौ प्रकाशन हुए हैं और फेज-3 ट्रायल की प्रभावित के बारे में 10वां प्रकाशन होगा


हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र

हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र

कोडरमा अंचल कार्यालय में पिछले कुछ महीनों से आम आदमी का कोई काम नहीं हो रहा है। यहां तक की रसीद कटवाने में भी लोगों के पसीने छूट रहे हैं। कार्यालय में फिलवक्त म्यूटेशन का भी कोई काम नहीं हो रहा है। इससे लोगों को काई कठिनाई हो रही है। छोटे-मोटे कामों के लिए लोग रोज ही कार्यालय क चक्कर लगा रहे हैं। वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार खास लोगों के काम साहब के आवास पर ही निबटा दिए जाते हैं। सूत्रों से पिछली रात कुछ खास लोगों के लगभग तीस म्यूटेशन एक ही रात में करके अंचल रसीद निर्गत किए जाने की जानकारी मिली है। सूत्रों से बताया कि आवास ही सीओ साहब का मीनी कार्यालय है। 
सीएम को लिखा पत्र: आरटीआई कार्यकर्ता अजय पांडेय ने इस मामले को लेकर सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने कोडरमा अंचल कार्यालय की बदहाली की चर्चा की है और कहा है कि यहां आम लोगों को रसीद कटवाने के लिए भी कई दिनों तक कार्यालय का चक्कर लगाना पड़ रहा है। जबकि पैरवी और रसूख रखनेवालों का काम आसान से हो रहा है। उन्होंने इस मामले की जांच कराकर अपेक्षित कार्रवाई की मांग की है ताकि आम आदमी को काम के लिए ऑफिस का चक्कर लगाना न पडे़।
सीओ नहीं उठाते फोन: इस मामले पर बात करने के लिए जब कोडरमा सीओ अनिल कुमार को जब फोन किया गया तो मोबाइल की घंटी लगातार बजती रही पर उन्होंने फोन नहीं उठाया। वहीं टेक्स्ट और व्हाट्सएप मैसेज कर जानकारी चाही तो मैसेज को देखने के बाद भी कोई जवाब नहीं दिया गया। 


Covid-19: बिहार में ब्लैक फंगस से अब तक 76 की मौत       16 जून से बिहार के लोगों को मिलेगी छूट या बढ़ेगी पाबंदी       बिहार में कोविड-19 से आठ मरीजों की मौत, इतने नए मुद्दे आए सामने       इन इलाकों में होगी भारी बारिश, समय से पहले पहुंचा मानसून       यूपी में आज से रेहड़ी-पटरी दुकानदारों के लिए विशेष टीकाकरण अभियान       महंगाई को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर भड़की मायावती, बोलीं...       सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर       हाल कोडरमा अंचल कार्यालय का, आम आदमी का नहीं हो रहा है कोई काम,आरटीआई कार्यकर्ता ने एसीम को लिखा पत्र       युद्ध के लिए हम तैयार हैं, चीन की सेना PLA ने ताइवान को दी धमकी       धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा       OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार       पौष्टिक आहार, पढ़ाई और प्यार, बच्चों के लिए अत्यंत अनिवार्य: शालिनी गुप्ता,  बाल श्रम उन्मूलन दिवस पर पारहो में फूड न्यूट्रिशन किट का किया वितरण        Muslim Lawmaker Ilhan Omar ने US और Israel की तुलना तालिबान से कर डाली       दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्षों की मुलाकात की तैयारियां पूरीं       अमेरिका में फेडरल जज बनने वाले पहले मुस्लिम बने जाहिद कुरैशी       70 दिन बाद कोविड-19 के सबसे कम केस, 24 घंटे में आए 84 हजार मामले, 4002 की मौत       कैसे डोनाल्ड ट्रंप को दी गई दवा कोविड-19 के मरीजों में जगा रही है उम्मीद?       PM मोदी से मुलाकात कर बहुत खुश हुए सीएम योगी, ट्वीट कर कही ये बड़ी बात       राजनाथ सिंह ने किया 'खामोश महामारी' का जिक्र, बोले...       अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं